Prasar Bharati

“India’s Public Service Broadcaster”

Pageviews

KEY MEMBERS – AB MATHUR, ABHAY KUMAR PADHI, A. RAJAGOPAL, AR SHEIKH, ANIMESH CHAKRABORTY, BB PANDIT, BRIG. RETD. VAM HUSSAIN, CBS MAURYA, CH RANGA RAO,Dr. A. SURYA PRAKASH,DHIRANJAN MALVEY, DK GUPTA, DP SINGH, D RAY, HD RAMLAL, HR SINGH, JAWHAR SIRCAR,K N YADAV,LD MANDLOI, MOHAN SINGH,MUKESH SHARMA, N.A.KHAN,NS GANESAN, OR NIAZEE, P MOHANADOSS,PV Krishnamoorthy, Rafeeq Masoodi,RC BHATNAGAR, RG DASTIDAR,R K BUDHRAJA, R VIDYASAGAR, RAKESH SRIVASTAVA,SK AGGARWAL, S.S.BINDRA, S. RAMACHANDRAN YOGENDER PAL, SHARAD C KHASGIWAL,YUVRAJ BAJAJ. PLEASE JOIN BY FILLING THE FORM GIVEN AT THE BOTTOM.

Saturday, February 28, 2015

स्वच्छ भारत अभियान आकाशवाणी गान प्रतियोगिता...





Source- Akashvani prasar Bharti (FB)
Blog Report-Praveen Nagdive, AIR Indore

WELCOME NEW MEMBERS

Name
RANJANBEN J. KACHA
City of residence
Designation
Phone
Email
How can you contribute

Name
AHMEDABAD
Sr. Engg. Asst.
9427213540
rjkacha@gmail.com
Inform others to join 

NARENDRA HINGONIKAR
City of residence
MUMBAI
Designation
UDC
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
9820561281
narendrahingonikar@yahoo.com
24.07.1964
Inform others to join

Name

UDAY GAONKAR
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
MUMBAI
UDC
9969535200
udaygaokar45@gmail.com
04.05.1973
Inform others to join

Name

NANJI
City of residence
DEESA
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
Former Employee
9974540849
nanji88amali@gmail.com
28/12/1990
Write for betterment of PB

Name

GAUTAM SENGUPTA
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute
KOLKATA
Deputy Director(Programme)
9339767900
gautamkol55@gmail.com
07.11.1955
Write for betterment of PB

Name

DR R,P,PATHAK
City of residence
Designation
Phone
Email
Date of Birth
How can you contribute

HYDRABAD
Listener/Viewer
9393251556
praghuveerprasad2013@gmeal.com
27/8/1957
Inform others to join
If You too want to join PB Parivar Blog, just click HERE

National Channel Todapur organizing Musical concert on 3rd March to celebrate the festival of colours(Holi)



Nstional Channel Todapur is organizing a musical concert on 03.03.2015 to celebrate the festival of colours(Holi) where in top folk artists of Rajasthan &Brij shall perfofm at Bhartiya Vidyabhavan Auditorium from 6 P.M onwards.

Contributed by : P.R. MEENA  prmeena14498@yahoo.co.in

Kissan Diwas - AIR Kothagudem (Telangana) Live Phone In



Live phone in programme conducted with Joint Director Agriculture and four other officials interview N.Sudhakar Rao Programme Head, K.Shankar Rao TREX, M.Jagadesh Technician other office staff on 15-02-2015

Contributed by:- N. SUDHAKAR RAO AIR KOTHAGUDEM  neerajajagadesh@gmail.com

We are on the road to autonomy: A Surya Prakash, chairman, Prasar Bharati



As the new chairman of Prasar Bharati, A Surya Prakash has a lot on his mind. From the '13,556 crore losses in 2011-12 to stiff competition from private channels, the organisation is struggling to find its feet. In a freewheeling interview with Ankita Lahiri, he clears the air on some of these issues and discusses his plans to revamp Prasar Bharati. Excerpts:

You have taken over Prasar Bharati at a time when it’s struggling. What direction do you propose to give it?

Let’s get some fundamentals in place. First, until the Prasar Bharati Act was passed by parliament and notified in 1997, Doordarshan (DD) and All India Radio (AIR) were virtually departments of the government. The Act said an autonomous corporation be set up under which DD and AIR were put. Second, it said that you shall uphold the greatest values and promote them. So that is the remit for Prasar Bharati. 

Then we come to reality. Out of our (Prasar Bharati’s) annual budget, 50 percent comes in the form of budgetary support from the union government. So if you ask ‘are you an autonomous corporation’, I say we are on the road to [becoming an] autonomous corporation. 

Since they (DD and AIR) were government departments for a long time, 90-95 percent of Prasar Bharati employees are central government employees.

Also, the Act said there should be a Prasar Bharati recruitment board. That means we should recruit our own people. And when we do that, the dependence on central government employees will start receding. That has not happened yet. So, this [setting up the recruitment board] is one of my priorities. We are one of the biggest media corporations. This has to be understood both outside and inside Prasar Bharati. 

But you are also answerable to parliament. Is it not contradictory?

We have budgetary support from the union government – which has given '2,000 crore this year – so, parliament will ask ‘how did you spend that money’. So, Prasar Bharati will have to stand on its own feet. When does this happen? One, when we have our own recruitment board. 

Two, we must monetise our assets. They had to be transferred to Prasar Bharati when the Act came into being. That has not happened. 

Then, internal revenue generation – about '1,900 crore this year – has to be sufficient to take care of our annual spending. That, however, does not mean that there is something terribly wrong in taking money from the government because we are a public service broadcaster. Our responsibility is to inform, educate and entertain, in that order. For other channels, the whole focus is on entertainment, even in news. We cannot be like that. 

The PM has a reputation of controlling information flow. Does Prasar Bharati run the risk of becoming the government’s mouthpiece?

I have no such fear. We cannot be anything outside the Prasar Bharati Act, nor is there any such attempt by the government. There are certain laws in our country which signify the deepening of our democratic traditions. The first was the Prasar Bharati Act, next came the Right to Information (RTI) Act. Can anyone repeal the RTI Act? It is not possible. 

So, you do not fear any interference from the government.

There is no question of anybody in Prasar Bharati being afraid of the government. For what? We have our jobs, our responsibilities [are] cut out. Many people ask ‘do we need a public service broadcaster for a country like India’. I say, of course, we do need one where there are 300-400 million illiterate people. Take the Swach Bharat campaign. AIR and DD are doing a fabulous job. You must listen to the little ads that come on the radio and DD, especially in local languages. In India, 70 percent homes do not have a toilet. Now you have to hammer that idea in [the minds of] 1,300 million people. Who can do it? Prasar Bharati has an important role there. I do not look at it as a government programme. It is a national programme. 

British public service broadcaster BBC is seen as a benchmark for TV journalism. DD News used to be one. It no longer is. Questions have been raised about its credibility. 

DD news is far more credible than many news channels that we have today. If you want news, please come to DD News. If you want to watch some maara-maari among six or eight people, go to some other channel. Have you seen this kind of maara-maari on BBC? This is the absurdity that I have not seen anywhere else. In the prime-time band watch BBC at 9 pm, there is a specific run order. In that half hour, you will get the picture of global news. Such is the case with DD News. Private channels are getting at each other’s throat on some or the other issue. There is no news there. Actually many of them should be in entertainment genre. 

In the next two-three months, I would like to see DD News as a top class news channel. 

But why is it not considered a bench-mark for TV journalism in India? 

It will be, I am saying. Watch DD News today. There is a byte and then there is a counter-byte. This is the grammar of TV news. So if you say this is sarkari news, I will just laugh at it. If it was sarkari, would you get the byte of the opposition?

Until now, AIR had the monopoly of broadcasting news. Now there is talk of FM channels being able to do the same. Will it change AIR’s position?

It won’t. First of all, what is being discussed is FM channels being permitted to take AIR news. Second, if they were to permit it, FM channels should carry AIR news, because those who hear FM channels should have access to it. 

What other initiatives are you planning?

There are a couple of things I want to tell you. We are in the process of ‘FMisation’ in all the metros, as short wave has become unpopular because of technological developments. 

Second point is that in India out of 250 million internet connections, 185 million are riding on smartphones. So people are listening to radio on their smartphones. That is the trend now. In four-five years, I expect this number to go up to 500 million. And these people will have internet connections on their smartphones. That is why all of us in media have to go back to the drawing board. We have to create content for this new-age consumer. And that is what Prasar Bharati is trying to do. Our news clips will have to be tailored to a '3,000 jugaad – a cellphone on which we listen to FM and surf internet. And this is not even 3G. When we produce content, we have to keep that in mind. This is low-cost operation for 500 million Indians. They have a device but that device is not so strong and not so smart as to capture our half an hour video. 

DD has a monopoly over the white space spectrum. Yet, it is under-utilised. Are you planning to use it? 

We have a lot of expansion plans. So the space that is available, we are very conscious of the need for that space, to retain that space. 

Your predecessor Jawhar Sircar spoke about digital terrestrial. Can you elaborate on it?

We have 2,300 towers. We are terrestrial but we need a proper assessment on how many people watch us on terrestrial. And then we have to make policy decisions in order to affect those changes in terms of technology to reach out to the large mass of people.
Second, the process is on to digitise our content and the archives. And 
we need to find enough funds to speed it up. 

Forwarded by:- PB NewsDesk prasarbharati.newsdesk@gmail.com

Padmabhusan Pandit Gokulutsavji maharaj at AIR Rajkot

Dr.Geeta Gida PEX MUSICAIR Rajkot
& .Dr.MIRA ADP AIR Rajkot with 
Padmabhusan Pandit Gokulutsavji Maharaj

Padmabhusan Pandit Gokulutsavji Maharaj exponent of Haveli Sangeet was interviewed by AIR Rajkot during his visit to the city.

Contributed by:- Geeta Gida geetagida8@gmail.com

Budget of Hope at IIM-Ahmedabad


News section of Doordarshan Kendra Ahmedabad has produced an episode of a series of programs on Union Budget under the title “Budget of Hope”. It was telecast on DD News Channel on 27 Feb 2015 at 19:00- 20:00 Hrs and repeated at 23:00- 24:00 Hrs.

The program was recorded at IIM Ahmedabad deploying 4 Camera EFP facilities. The participation of students of IIM-Ahmedabad made the program interactive with their new and innovative perspective of the subject.

The experts and moderator were from various fields related to planning, industries, Institutes and other forums.

Experts of the program are :
1. Mr. Bhagesh Soneji, ASSOCHAM, Gujarat President
2. Mr. Chunnibhai Patel, President Morbi Ceramic Association
3. Mr. Himani Baxi, Economics
4. Mr. Yamal Vyas, Member, State Planning Commission

Moderator was Mr. Dhiraj Sharma, Professor, IIM Ahmedabad
The program was conducted and anchored by Shri Arun Sharma and online produced by Shri Pankaj Chauhan, PEX (insitu). Facility and set up was installed and execution was carried out by Satyen Goware, Assistant Engineer along with his technical team.
This episode is a program contribution of Regional News Unit, Ahmedabad to DD News Channel. The recording was not possible without the efforts put in by Shri. Dharmendra Tiwari, Director and Shri Jagdish Patadia, Assistant Director News section.




Friday, February 27, 2015

All India Radio Kohima retierments

All India Radio Kohima would like to use this Prasarbharti Parivar Platform to congratulate the following two employees of PB posted at AIR Kohima who will be retiring from AIR on 28th Feb`2015 on attaining the age of supernaution.....

1. Shri. V. Linyü ---- Appointed as Care Taker on 18/2/1977
Retiring as Sr. AO on 28/2/2015
Served Organization : 38 years & 11 Days

2. Shri. Zakitso Kikhi Angami --- Appointed as Technical Helper on 04/10/1972
Retiring as Sr. Engg. Asstt on 28/2/2015
Served Organization : 42 years, 4 months & 10 Days

Shri Zakitso Kikhi Angami, Joined All India Radio as Technical Helper on 4th October 1972, he has rendered his services for more than 42 years in different station`s of All India Radio and Doordarshan in various capacities. A part from serving in different capital station of North East and Office of the then CE AIR & TV Culcatta, he was also on deputation to Saudi Arabia from 1983 – 1987. He has gain experiences in Studios, ENG Equipments, High Power Transmitters (FM, AM, SW) and operation and maintenance of Telecom Microwave Network. He is energetic, enthusiastic and has been demonstrating his dedication to work and his functional competencies and positive personal attribute consistently at higher level throughout his service carrier. He is an asset to our organization. 

We congratulate them on their retirement from All India Radio and wish them the best in his future endeavors.

From DE ( HOO ) AIR Kohima
943 600 1279, kkrengma529@gmail.com

Wish happy retirement life to our elder colleagues


Following are some of our friends who will be superannuating from AIR & DD on 28.02.2015 after giving in their valuable contributions to the organization. 

1. Shri. Vikas Purandare, Tabla Player  AIR, Pune                                            09765942488
2. Shri. Sudhakar V. Chopade, S. Guard AIR, Pune                                            09011358920
3. Shri. B.C. Yadav, PEX (I/S)                AIR, Satara                                          09665706653
4. Shri. S. Chidambaram, EA                  AIR, Madurai                                      09677565301                     
5. Shri. S.R. Zingle, S. Guard                  AIR, Amaravati                                  -
6. Shri. Rushinath Naik, AO                    AIR, Keonjhar                                    -
7. Shri. Daud Haripal, Pump Operator    CCW (E), AIR, Sambalpur              -
8. Shri. V.K. Linyu, AO                           AIR, Kohima                                       09436062678
9. Shri. S.K. Mohanty, DDE                    AIR, Cuttack                                       08763106969
10. Shri. Som Dutta Sharma, DDP          DG, AIR, New Delhi                         09953561402
11. Shri. Rabindra Nath Mishra, DDG(P)DDK, Bhubaneshwar                      09437971571
12. Shri. Mityananda Barik, Head Clerk AIR, Puri                                               -
13. Shri. K.S. Samaddar, UDC                DDK, Jagdalpur                                  -
14. Shri. Babai Yadav, DDG(E)              ADG(E) (WZ), Mumbai                   09869262338
15. Shri.Surendra Tiwari, PEX                AIR Chhatarpur
16. Smt.Varsha Sharma, PEX                  AIR Bhopal
                                                                                                                               
These officers have given 30-35 years of their prime life to the organization and their contributions have helped AIR and Doordarshan stand as proud public broadcasters of the country. We thank these officers for their services to the organization and wish them a happy retired life.

Information about other retiring officers (of all grades and disciplines) may be added on the blog. Please mail details of retiring friends from your station to pbparivar@gmail.com

Retiring friends may also like to address their friends through this blog for which they can send their photo & write-ups to pbparivar@gmail.com for possible upload on the  blog.

Compiled by: Shri.Suryakant S.Kadam, AIR Pune,  suryaskadam@rediffmail.com

Surendra Tiwari, PEX and Programme Head, AIR, Chhatarpur retiring today (28th Feb 2015)

After almost 40 years of an illustrious career as Announcer and a programme officer with All India Radio, Shri Surendra Tiwari, (PEX) is relinquishing his charge on 28th Feb 2015. Shri Surendra Tiwari is associated with AIR, Chhatarpur even before its inception. AIR, Chhatarpur was officially inaugurated on 7 August 1976 while Shri Tiwari is associated with this station since 30 July 1976 as casual announcer. Later on Shri TIwari joined as regular Announcer on 1st January 1978 at this station. During his tenure at AIR Chhatarpur he started well popular Bundeli comedy serial “Beru Bhauji” and “Urjan Surjan” from 1978 to 1986. Shri Tiwari himself attained B+ Drama Artist and B grade Bundeli folk music artist. An artist par excellence, Shri Tiwari was selected as ‘Programme Executive’ through UPSC and joined at AIR Indore on 6th June 1986. He started his new inning in Indore and bagged three national awards for consecutive three years in following category.
Year
Name of Award
Name of production (Feature/Documentary)
1988
Family welfare award
“Us Ladki Ka Naam Kya Hai”
1989
1st Lassakaul award
“Jahan Khatm Nahin Hoti Kavita”
1990
Special topic documentary award
“Chalen Goan Ki Ore”

He maintained very good rapports at the highest level of bureaucracy of state government , during his tenure of posting at AIR Bhopal. Apart from writing and producing about 400 Drama & features, Shri Tiwari has played a variety of lead roles in more than 500 drama productions at various stations. We will be missing his sense of humor, his ability to maintain composure in a difficult situation, his supportive and friendly attitude, open-hearted personality and his good nature. We wish him all success for his future.
Contributed by Ajay Khare, EA, AIR, Chhatarpur

२२ फरवरी को आकाशवाणी पर प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने की 'मन कि बात': शब्दोमे



नमस्ते, युवा दोस्तो। आज तो पूरा दिन भर शायद आपका मन क्रिकेट मैच में लगा होगा, एक तरफ परीक्षा की चिंता और दूसरी तरफ वर्ल्ड कप हो सकता है आप छोटी बहन को कहते होंगे कि बीच – बीच में आकर स्कोर बता दे। कभी आपको ये भी लगता होगा, चलो यार छोड़ो, कुछ दिन के बाद होली आ रही है और फिर सर पर हाथ पटककर बैठे होंगे कि देखिये होली भी बेकार गयी, क्यों? एग्जाम आ गयी। होता है न! बिलकुल होता होगा, मैं जानता हूँ। खैर दोस्तो, आपकी मुसीबत के समय मैं आपके साथ आया हूँ। आपके लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है। उस समय मैं आया हूँ। और मैं आपको कोई उपदेश देने नहीं आया हूँ। ऐसे ही हलकी – फुलकी बातें करने आया हूँ।

बहुत पढ़ लिया न, बहुत थक गए न! और माँ डांटती है, पापा डांटते है, टीचर डांटते हैं, पता नहीं क्या क्या सुनना पड़ता है। टेलीफोन रख दो, टीवी बंद कर दो, कंप्यूटर पर बैठे रहते हो, छोड़ो सबकुछ, चलो पढ़ो यही चलता है न घर में? साल भर यही सुना होगा, दसवीं में हो या बारहवीं में। और आप भी सोचते होंगे कि जल्द एग्जाम खत्म हो जाए तो अच्छा होगा, यही सोचते हो न? मैं जानता हूँ आपके मन की स्थिति को और इसीलिये मैं आपसे आज ‘मन की बात’ करने आया हूँ। वैसे ये विषय थोड़ा कठिन है।

आज के विषय पर माँ बाप चाहते होंगे कि मैं उन बातों को करूं, जो अपने बेटे को या बेटी को कह नहीं पाते हैं। आपके टीचर चाहते होंगे कि मैं वो बातें करूँ, ताकि उनके विद्यार्थी को वो सही बात पहुँच जाए और विद्यार्थी चाहता होगा कि मैं कुछ ऐसी बातें करूँ कि मेरे घर में जो प्रेशर है, वो प्रेशर कम हो जाए। मैं नहीं जानता हूँ, मेरी बातें किसको कितनी काम आयेंगी, लेकिन मुझे संतोष होगा कि चलिये मेरे युवा दोस्तों के जीवन के महत्वपूर्ण पल पर मैं उनके बीच था. अपने मन की बातें उनके साथ गुनगुना रहा था। बस इतना सा ही मेरा इरादा है और वैसे भी मुझे ये तो अधिकार नहीं है कि मैं आपको अच्छे एग्जाम कैसे जाएँ, पेपर कैसे लिखें, पेपर लिखने का तरीका क्या हो? ज्यादा से ज्यादा मार्क्स पाने की लिए कौन – कौन सी तरकीबें होती हैं? क्योंकि मैं इसमें एक प्रकार से बहुत ही सामान्य स्तर का विद्यार्थी हूँ। क्योंकि मैंने मेरे जीवन में किसी भी एग्जाम में अच्छे परिणाम प्राप्त नहीं किये थे। ऐसे ही मामूली जैसे लोग पढ़ते हैं वैसे ही मैं था और ऊपर से मेरी तो हैण्डराइटिंग भी बहुत ख़राब थी। तो शायद कभी – कभी तो मैं इसलिए भी पास हो जाता था, क्योंकि मेरे टीचर मेरा पेपर पढ़ ही नहीं पाते होंगे। खैर वो तो अलग बातें हो गयी, हलकी – फुलकी बातें हैं।

लेकिन मैं आज एक बात जरुर आपसे कहना चाहूँगा कि आप परीक्षा को कैसे लेते हैं, इस पर आपकी परीक्षा कैसी जायेगी, ये निर्भर करती है। अधिकतम लोगों को मैंने देखा है कि वो इसे अपने जीवन की एक बहुत बड़ी महत्वपूर्ण घटना मानते हैं और उनको लगता है कि नहीं, ये गया तो सारी दुनिया डूब जायेगी। दोस्तो, दुनिया ऐसी नहीं है। और इसलिए कभी भी इतना तनाव मत पालिये। हाँ, अच्छा परिणाम लाने का इरादा होना चाहिये। पक्का इरादा होना चाहिये, हौसला भी बुलंद होना चाहिये। लेकिन परीक्षा बोझ नहीं होनी चाहिये, और न ही परीक्षा कोई आपके जीवन की कसौटी कर रही है। ऐसा सोचने की जरुरत नहीं है।

कभी-कभार ऐसा नहीं लगता कि हम ही परीक्षा को एक बोझ बना देते हैं घर में और बोझ बनाने का एक कारण जो होता है, ये होता है कि हमारे जो रिश्तेदार हैं, हमारे जो यार – दोस्त हैं, उनका बेटा या बेटी हमारे बेटे की बराबरी में पढ़ते हैं, अगर आपका बेटा दसवीं में है, और आपके रिश्तेदारों का बेटा दसवीं में है तो आपका मन हमेशा इस बात को कम्पेयर करता रहता है कि मेरा बेटा उनसे आगे जाना चाहिये, आपके दोस्त के बेटे से आगे होना चाहिये। बस यही आपके मन में जो कीड़ा है न, वो आपके बेटे पर प्रेशर पैदा करवा देता है। आपको लगता है कि मेरे अपनों के बीच में मेरे बेटे का नाम रोशन हो जाये और बेटे का नाम तो ठीक है, आप खुद का नाम रोशन करना चाहते हैं। क्या आपको नहीं लगता है कि आपके बेटे को इस सामान्य स्पर्धा में लाकर के आपने खड़ा कर दिया है? जिंदगी की एक बहुत बड़ी ऊँचाई, जीवन की बहुत बड़ी व्यापकता, क्या उसके साथ नहीं जोड़ सकते हैं? अड़ोस – पड़ोस के यार दोस्तों के बच्चों की बराबरी वो कैसी करता है! और यही क्या आपका संतोष होगा क्या? आप सोचिये? एक बार दिमाग में से ये बराबरी के लोगों के साथ मुकाबला और उसी के कारण अपने ही बेटे की जिंदगी को छोटी बना देना, ये कितना उचित है? बच्चों से बातें करें तो भव्य सपनों की बातें करें। ऊंची उड़ान की बातें करें। आप देखिये, बदलाव शुरू हो जाएगा।

दोस्तों एक बात है जो हमें बहुत परेशान करती है। हम हमेशा अपनी प्रगति किसी और की तुलना में ही नापने के आदी होते हैं। हमारी पूरी शक्ति प्रतिस्पर्धा में खप जाती है। जीवन के बहुत क्षेत्र होंगे, जिनमें शायद प्रतिस्पर्धा जरूरी होगी, लेकिन स्वयं के विकास के लिए तो प्रतिस्पर्धा उतनी प्रेरणा नहीं देती है, जितनी कि खुद के साथ हर दिन स्पर्धा करते रहना। खुद के साथ ही स्पर्धा कीजिये, अच्छा करने की स्पर्धा, तेज गति से करने की स्पर्धा, और ज्यादा करने की स्पर्धा, और नयी ऊंचाईयों पर पहुँचने की स्पर्धा आप खुद से कीजिये, बीते हुए कल से आज ज्यादा अच्छा हो इस पर मन लगाइए। और आप देखिये ये स्पर्धा की ताकत आपको इतना संतोष देगी, इतना आनंद देगी जिसकी आप कल्पना नहीं कर सकते। हम लोग बड़े गर्व के साथ एथलीट सेरगेई बूबका का स्मरण करते हैं। इस एथलीट ने पैंतीस बार खुद का ही रिकॉर्ड तोड़ा था। वह खुद ही अपने एग्जाम लेता था। खुद ही अपने आप को कसौटी पर कसता था और नए संकल्पों को सिद्ध करता था। आप भी उसी लिहाज से आगे बढें तो आप देखिये आपको प्रगति के रास्ते पर कोई नहीं रोक सकता है।

युवा दोस्तो, विद्यार्थियों में भी कई प्रकार होते हैं। कुछ लोग कितनी ही परीक्षाएं क्यों न भाए बड़े ही बिंदास होते हैं। उनको कोई परवाह ही नहीं होती और कुछ होते हैं जो परीक्षा के बोझ में दब जाते हैं। और कुछ लोग मुह छुपा करके घर के कोने में किताबों में फंसे रहते हैं। इन सबके बावजूद भी परीक्षा परीक्षा है और परीक्षा में सफल होना भी बहुत आवश्यक है और में भी चाहता हूँ कि आप भी सफल हों लेकिन कभी- कभी आपने देखा होगा कि हम बाहरी कारण बहुत ढूँढ़ते हैं। ये बाहरी कारण हम तब ढूँढ़ते हैं, जब खुद ही कन्फ्यूज्ड हों। खुद पर भरोसा न हो, जैसे जीवन में पहली बार परीक्षा दे रहे हों। घर में कोई टीवी जोर से चालू कर देगा, आवाज आएगी, तो भी हम चिड़चिड़ापन करते होंगे, माँ खाने पर बुलाती होगी तो भी चिड़चिड़ापन करते होंगे। दूसरी तरफ अपने किसी यार-दोस्त का फ़ोन आ गया तो घंटे भर बातें भी करते होंगें । आप को नहीं लगता है आप स्वयं ही अपने विषय में ही कन्फ्यूज्ड हैं।

दोस्तो खुद को पहचानना ही बहुत जरुरी होता है। आप एक काम किजीये बहुत दूर का देखने की जरुरत नहीं है। आपकी अगर कोई बहन हो, या आपके मित्र की बहन हो जिसने दसवीं या बारहवी के एग्जाम दे रही हो, या देने वाली हो। आपने देखा होगा, दसवीं के एग्जाम हों बारहवीं के एग्जाम हों तो भी घर में लड़कियां माँ को मदद करती ही हैं। कभी सोचा है, उनके अंदर ये कौन सी ऐसी ताकत है कि वे माँ के साथ घर काम में मदद भी करती हैं और परीक्षा में लड़कों से लड़कियां आजकल बहुत आगे निकल जाती हैं। थोड़ा आप ओबजर्व कीजिये अपने अगल-बगल में। आपको ध्यान में आ जाएगा कि बाहरी कारणों से परेशान होने की जरुरत नहीं है। कभी-कभी कारण भीतर का होता है. खुद पर अविश्वास होता है न तो फिर आत्मविश्वास क्या काम करेगा? और इसलिए मैं हमेशा कहता हूँ जैसे-जैसे आत्मविश्वास का अभाव होता है, वैसे वैसे अंधविश्वास का प्रभाव बढ़ जाता है। और फिर हम अन्धविश्वास में बाहरी कारण ढूंढते रहते हैं। बाहरी कारणों के रास्ते खोजते रहते हैं. कुछ तो विद्यार्थी ऐसे होते हैं जिनके लिए हम कहते हैं आरम्म्भीशुरा। हर दिन एक नया विचार, हर दिन एक नई इच्छा, हर दिन एक नया संकल्प और फिर उस संकल्प की बाल मृत्यु हो जाता है, और हम वहीं के वहीं रह जाते हैं। मेरा तो साफ़ मानना है दोस्तो बदलती हुई इच्छाओं को लोग तरंग कहते हैं। हमारे साथी यार- दोस्त, अड़ोसी-पड़ोसी, माता-पिता मजाक उड़ाते हैं और इसलिए मैं कहूँगा, इच्छाएं स्थिर होनी चाहिये और जब इच्छाएं स्थिर होती हैं, तभी तो संकल्प बनती हैं और संकल्प बाँझ नहीं हो सकते। संकल्प के साथ पुरुषार्थ जुड़ता है. और जब पुरुषार्थ जुड़ता है तब संकल्प सिद्दी बन जाता है. और इसीलिए तो मैं कहता हूँ कि इच्छा प्लस स्थिरता इज-इक्वल टू संकल्प। संकल्प प्लस पुरुषार्थ इज-इक्वल टू सिद्धि। मुझे विश्वास है कि आपके जीवन यात्रा में भी सिद्दी आपके चरण चूमने आ जायेगी। अपने आप को खपा दीजिये। अपने संकल्प के लिए खपा दीजिये और संकल्प सकारात्मक रखिये। किसी से आगे जाने की मत सोचिये। खुद जहां थे वहां से आगे जाने के लिए सोचिये। और इसलिए रोज अपनी जिंदगी को कसौटी पर कसता रहता है उसके लिए कितनी ही बड़ी कसौटी क्यों न आ जाए कभी कोई संकट नहीं आता है और दोस्तों कोई अपनी कसौटी क्यों करे? कोई हमारे एग्जाम क्यों ले? आदत डालो न। हम खुद ही हमारे एग्जाम लेंगें। हर दिन हमारी परीक्षा लेंगे। देखेंगे मैं कल था वहां से आज आगे गया कि नहीं गया। मैं कल था वहां से आज ऊपर गया कि नहीं। मैंने कल जो पाया था उससे ज्यादा आज पाया कि नहीं पाया। हर दिन हर पल अपने आपको कसौटी पर कसते रहिये। फिर कभी जिन्दगी में कसौटी, कसौटी लगेगी ही नहीं। हर कसौटी आपको खुद को कसने का अवसर बन जायेगी और जो खुद को कसना जानता वो कसौटियों को भी पार कर जाता है और इसलिए जो जिन्दगी की परीक्षा से जुड़ता है उसके लिए क्लासरूम की परीक्षा बहुत मामूली होती है।

कभी आपने भी कल्पना नहीं की होगी की इतने अच्छे अच्छे काम कर दिए होंगें। जरा उसको याद करो, अपने आप विश्वास पैदा हो जाएगा। अरे वाह! आपने वो भी किया था, ये भी किया था? पिछले साल बीमार थी तब भी इतने अच्छे मार्क्स लाये थे। पिछली बार मामा के घर में शादी थी, वहां सप्ताह भर ख़राब हो गया था, तब भी इतने अच्छे मार्क्स लाये थे। अरे पहले तो आप छः घंटे सोते थे और पिछली साल आपने तय किया था कि नहीं नहीं अब की बार पांच घंटे सोऊंगा और आपने कर के दिखाया था। अरे यही तो है मोदी आपको क्या उपदेश देगा। आप अपने मार्गदर्शक बन जाइए। और भगवान् बुद्ध तो कहते थे अंतःदीपो भव:।

मैं मानता हूँ, आपके भीतर जो प्रकाश है न उसको पहचानिए आपके भीतर जो सामर्थ्य है, उसको पहचानिए और जो खुद को बार-बार कसौटी पर कसता है वो नई-नई ऊंचाइयों को पार करता ही जाता है। दूसरा कभी- कभी हम बहुत दूर का सोचते रहते हैं। कभी-कभी भूतकाल में सोये रहते हैं। दोस्तो परीक्षा के समय ऐसा मत कीजिये। परीक्षा समय तो आप वर्तमान में ही जीना अच्छा रहेगा। क्या कोई बैट्समैन पिछली बार कितनी बार जीरो में आऊट हो गया, इसके गीत गुनगुनाता है क्या? या ये पूरी सीरीज जीतूँगा या नहीं जीतूँगा, यही सोचता है क्या? मैच में उतरने के बाद बैटिंग करते समय सेंचुरी करके ही बाहर आऊँगा कि नहीं आऊँगा, ये सोचता है क्या? जी नहीं, मेरा मत है, अच्छा बैट्समैन उस बॉल पर ही ध्यान केन्द्रित करता है, जो बॉल उसके सामने आ रहा है। वो न अगले बॉल की सोचता है, न पूरे मैच की सोचता है, न पूरी सीरीज की सोचता है। आप भी अपना मन वर्तमान से लगा दीजिये। जीतना है तो उसकी एक ही जड़ी-बूटी है। वर्तमान में जियें, वर्तमान से जुड़ें, वर्तमान से जूझें। जीत आपके साथ साथ चलेगी।

मेरे युवा दोस्तो, क्या आप ये सोचते हैं कि परीक्षा आपकी क्षमता का प्रदर्शन करने के लिए होती हैं। अगर ये आपकी सोच है तो गलत है। आपको किसको अपनी क्षमता दिखानी है? ये प्रदर्शन किसके सामने करना है? अगर आप ये सोचें कि परीक्षा क्षमता प्रदर्शन के लिए नहीं, खुद की क्षमता पहचानने के लिए है। जिस पल आप अपने मन्त्र मानने लग जायेंगे आप पकड़ लेंगें न, आपके भीतर का विश्वास बढ़ता चला जाएगा और एक बार आपने खुद को जाना, अपनी ताकत को जाना तो आप हमेशा अपनी ताकत को ही खाद पानी डालते रहेंगे और वो ताकत एक नए सामर्थ्य में परिवर्तित हो जायेगी और इसलिए परीक्षा को आप दुनिया को दिखाने के लिए एक चुनौती के रूप में मत लीजिये, उसे एक अवसर के रूप में लीजिये। खुद को जानने का, खुद को पह्चानने का, खुद के साथ जीने का यह एक अवसर है। जी लीजिये न दोस्तो।

दोस्तो मैंने देखा है कि बहुत विद्यार्थी ऐसे होते हैं जो परीक्षाओं के दिनों में नर्वस हो जाते हैं। कुछ लोगों का तो कथन इस बात का होता है कि देखो मेरी आज एग्जाम थी और मामा ने मुझे विश नहीं किया. चाचा ने विश नहीं किया, बड़े भाई ने विश नहीं किया। और पता नहीं उसका घंटा दो घंटा परिवार में यही डिबेट होता है, देखो उसने विश किया, उसका फ़ोन आया क्या, उसने बताया क्या, उसने गुलदस्ता भेजा क्या? दोस्तो इससे परे हो जाइए, इन सारी चीजों में मत उलझिए। ये सारा परीक्षा के बाद सोचना किसने विश किये किसने नहीं किया। अपने आप पर विश्वास होगा न तो ये सारी चीजें आयेंगी ही नहीं। दोस्तों मैंने देखा है की ज्यादातर विद्यार्थी नर्वस हो जाते हैं। मैं मानता हूँ की नर्वस होना कुछ लोगों के स्वभाव में होता है। कुछ परिवार का वातावरण ही ऐसा है। नर्वस होने का मूल कारण होता है अपने आप पर भरोसा नहीं है। ये अपने आप पर भरोसा कब होगा, एक अगर विषय पर आपकी अच्छी पकड़ होगी, हर प्रकार से मेहनत की होगी, बार-बार रिवीजन किया होगा। आपको पूरा विश्वास है हाँ हाँ इस विषय में तो मेरी मास्टरी है और आपने भी देखा होगा, पांच और सात सब्जेक्ट्स में दो तीन तो एजेंडा तो ऐसे होंगे जिसमें आपको कभी चिंता नहीं रहती होगी। नर्वसनेस कभी एक आध दो में आती होगी। अगर विषय में आपकी मास्टरी है तो नर्वसनेस कभी नहीं आयेगी।

आपने साल भर जो मेहनत की है न, उन किताबों को वो रात-रात आपने पढाई की है आप विश्वाश कीजिये वो बेकार नहीं जायेगी। वो आपके दिल-दिमाग में कहीं न कहीं बैठी है, परीक्षा की टेबल पर पहुँचते ही वो आयेगी। आप अपने ज्ञान पर भरोसा करो, अपनी जानकारियों पर भरोसा करो, आप विश्वास रखो कि आपने जो मेहनत की है वो रंग लायेगी और दूसरी बात है आप अपनी क्षमताओं के बारे में बड़े कॉंफिडेंट होने चाहिये। आपको पूरी क्षमता होनी चाहिये कि वो पेपर कितना ही कठिन क्यों न हो मैं तो अच्छा कर लूँगा। आपको कॉन्फिडेंस होना चाहिये कि पेपर कितना ही लम्बा क्यों न होगा में तो सफल रहूँगा या रहूँगी। कॉन्फिडेंस रहना चाहिये कि में तीन घंटे का समय है तो तीन घंटे में, दो घंटे का समय है तो दो घंटे में, समय से पहले मैं अपना काम कर लूँगा और हमें तो याद है शायद आपको भी बताते होंगे हम तो छोटे थे तो हमारी टीचर बताते थे जो सरल क्वेश्चन है उसको सबसे पहले ले लीजिये, कठिन को आखिर में लीजिये। आपको भी किसी न किसी ने बताया होगा और मैं मानता हूँ इसको तो आप जरुर पालन करते होंगे।

दोस्तो माई गोव पर मुझे कई सुझाव, कई अनुभव आए हैं । वो सारे तो मैं शिक्षा विभाग को दे दूंगा, लेकिन कुछ बातों का मैं उल्लेख करना चाहता हूँ!

मुंबई महाराष्ट्र के अर्णव मोहता ने लिखा है कि कुछ लोग परीक्षा को जीवन मरण का इशू बना देते हैं अगर परीक्षा में फेल हो गए तो जैसे दुनिया डूब गयी हैं। तो वाराणसी से विनीता तिवारी जी, उन्होंने लिखा है कि जब परिणाम आते है और कुछ बच्चे आत्महत्या कर देते हैं, तो मुझे बहुत पीड़ा होती है, ये बातें तो सब दूर आपके कान में आती होंगी, लेकिन इसका एक अच्छा जवाब मुझे किसी और एक सज्जन ने लिखा है। तमिलनाडु से मिस्टर आर. कामत, उन्होंने बहुत अच्छे दो शब्द दिए है, उन्होंने कहा है कि स्टूडेंट्स worrier मत बनिए, warrior बनिए, चिंता में डूबने वाले नहीं, समरांगन में जूझने वाले होने चाहिए, मैं समझता हूँ कि सचमुच मैं हम चिंता में न डूबे, विजय का संकल्प ले करके आगे बढ़ना और ये बात सही है, जिंदगी बहुत लम्बी होती है, उतार चढाव आते रहते है, इससे कोई डूब नहीं जाता है, कभी कभी अनेच्छिक परिणाम भी आगे बढ़ने का संकेत भी देते हैं, नयी ताकत जगाने का अवसर भी देते है!

एक चीज़ मैंने देखी हैं कि कुछ विद्यार्थी परीक्षा खंड से बाहर निकलते ही हिसाब लगाना शुरू कर देते है कि पेपर कैसा गया, यार, दोस्त, माँ बाप जो भी मिलते है वो भी पूछते है भई आज का पेपर कैसा गया? मैं समझता हूँ कि आज का पेपर कैसा गया! बीत गयी सो बात गई, प्लीज उसे भूल जाइए, मैं उन माँ बाप को भी प्रार्थना करता हूँ प्लीज अपने बच्चे को पेपर कैसा गया ऐसा मत पूछिए, बाहर आते ही उसको कह दे वाह! तेरे चेहरे पर चमक दिख रही है, लगता है बहुत अच्छा पेपर गया? वाह शाबाश, चलो चलो कल के लिए तैयारी करते है! ये मूड बनाइये और दोस्तों मैं आपको भी कहता हूँ, मान लीजिये आपने हिसाब किताब लगाया, और फिर आपको लगा यार ये दो चीज़े तो मैंने गलत कर दी, छः मार्क कम आ जायेंगे, मुझे बताइए इसका विपरीत प्रभाव, आपके दूसरे दिन के पेपर पर पड़ेगा कि नहीं पड़ेगा? तो क्यों इसमें समय बर्बाद करते हो? क्यों दिमाग खपाते हो? सारी एग्जाम समाप्त होने के बाद, जो भी हिसाब लगाना है, लगा लीजिये! कितने मार्क्स आएंगे, कितने नहीं आएंगे, सब बाद में कीजिये, परीक्षा के समय, पेपर समाप्त होने के बाद, अगले दिन पर ही मन केन्द्रित कीजिए, उस बात को भूल जाइए, आप देखिये आपका बीस पच्चीस प्रतिशत बर्डन यूं ही कम हो जाएगा।

मेरे मन मे कुछ और भी विचार आते चले जाते हैं खैर मै नहीं जानता कि अब तो परीक्षा का समय आ गया तो अभी वो काम आएगा। लेकिन मै शिक्षक मित्रों से कहना चाहता हूँ, स्कूल मित्रों से कहना चाहता हूँ कि क्या हम साल में दो बार हर टर्म में एक वीक का परीक्षा उत्सव नहीं मना सकते हैं, जिसमें परीक्षा पर व्यंग्य काव्यों का कवि सम्मलेन हो. कभी एसा नहीं हो सकता परीक्षा पर कार्टून स्पर्धा हो परीक्षा के ऊपर निबंध स्पर्धा हो परीक्षा पर वक्तोतव प्रतिस्पर्धा हो, परीक्षा के मनोवैज्ञानिक परिणामों पर कोई आकरके हमें लेक्चर दे, डिबेट हो, ये परीक्षा का हव्वा अपने आप ख़तम हो जाएगा। एक उत्सव का रूप बन जाएगा और फिर जब परीक्षा देने जाएगा विद्यार्थी तो उसको आखिरी मोमेंट से जैसे मुझे आज आपका समय लेना पड़ रहा है वो लेना नहीं पड़ता, वो अपने आप आ जाता और आप भी अपने आप में परीक्षा के विषय में बहुत ही और कभी कभी तो मुझे लगता है कि सिलेबस में ही परीक्षा विषय क्या होता हैं समझाने का क्लास होना चाहिये। क्योंकि ये तनावपूर्ण अवस्था ठीक नहीं है।

दोस्तो मैं जो कह रहा हूँ, इससे भी ज्यादा आपको कईयों ने कहा होगा! माँ बाप ने बहुत सुनाया होगा, मास्टर जी ने सुनाया होगा, अगर टयूशन क्लासेज में जाते होंगे तो उन्होंने सुनाया होगा, मैं भी अपनी बाते ज्यादा कह करके आपको फिर इसमें उलझने के लिए मजबूर नहीं करना चाहता, मैं इतना विश्वास दिलाता हूँ, कि इस देश का हर बेटा, हर बेटी, जो परीक्षा के लिए जा रहे हैं, वे प्रसन्न रहे, आनंदमय रहे, हसंते खेलते परीक्षा के लिए जाए!

आपकी ख़ुशी के लिए मैंने आपसे बातें की हैं, आप अच्छा परिणाम लाने ही वाले है, आप सफल होने ही वाले है, परीक्षा को उत्सव बना दीजिए, ऐसा मौज मस्ती से परीक्षा दीजिए, और हर दिन अचीवमेंट का आनंद लीजिए, पूरा माहौल बदल दीजिये। माँ बाप, शिक्षक, स्कूल, क्लासरूम सब मिल करके करिए, देखिये, कसौटी को भी कसने का कैसा आनंद आता है, चुनौती को चुनौती देने का कैसा आनंद आता है, हर पल को अवसर में पलटने का क्या मजा होता है, और देखिये दुनिया में हर कोई हर किसी को खुश नहीं कर सकता है!

मुझे पहले कविताएं लिखने का शौक था, गुजराती में मैंने एक कविता लिखी थी, पूरी कविता तो याद नहीं, लेकिन मैंने उसमे लिखा था, सफल हुए तो ईर्ष्या पात्र, विफल हुए तो टिका पात्र, तो ये तो दुनिया का चक्र है, चलता रहता है, सफल हो, किसी को पराजित करने के लिए नहीं, सफल हो, अपने संकल्पों को पार करने के लिए, सफल हो अपने खुद के आनंद के लिए, सफल हो अपने लिए जो लोग जी रहे है, उनके जीवन में खुशियाँ भरने के लिए, ये ख़ुशी को ही केंद्र में रख करके आप आगे बढ़ेंगे, मुझे विश्वास है दोस्तो! बहुत अच्छी सफलता मिलेगी, और फिर कभी, होली का त्यौहार मनाया कि नहीं मनाया, मामा के घर शादी में जा पाया कि नहीं जा पाया, दोस्तों कि बर्थडे पार्टी में इस बार रह पाया कि नहीं रह पाया, क्रिकेट वर्ल्ड कप देख पाया कि नहीं देख पाया, सारी बाते बेकार हो जाएँगी , आप और एक नए आनंद को नयी खुशियों में जुड़ जायेंगे, मेरी आपको बहुत शुभकामना हैं, और आपका भविष्य जितना उज्जवल होगा, देश का भविष्य भी उतना ही उज्जवल होगा, भारत का भाग्य, भारत की युवा पीढ़ी बनाने वाली है, आप बनाने वाले हैं, बेटा हो या बेटी दोनों कंधे से कन्धा मिला करके आगे बढ़ने वाले हैं!
आइये, परीक्षा के उत्सव को आनंद उत्सव में परिवर्तित कीजिए, बहुत बहुत शुभकामनाएं!

AIR Bhopal कार्यक्रम निष्पादक सुश्री वर्षा शर्मा की आज सेवानिवृत्ति...

आज आकाशवाणी भोपाल में कार्यरत् कार्यक्रम निष्पादक श्रीमती वर्षा शर्मा 60 वर्ष की आयु पूर्ण होने पर सेवानिवृत्त हो रही हैं। 01 मार्च, 1955 को भोपाल में जन्मी सुश्री शर्मा ने 31 जनवरी, 1986 को आकाशवाणी के कानपुर केन्द्र से प्रसारण निष्पादक के रूप में अपनी सेवाएं आरंभ कीं तथा कानपुर के साथ-साथ आकाशवाणी के इन्दौर व भोपाल केन्द्रों में प्रसारण निष्पादक के रूप में कार्य किया। 15 फरवरी, 1999 को कार्यक्रम निष्पादक के रूप में वे पदोन्नत हुईं तथा कार्यक्रम अधिशासी के रूप में आकाशवाणी के बैतूल केन्द्र के साथ, विज्ञापन प्रसारण सेवा भोपाल तथा आकाशवाणी केन्द्र भोपाल में विभिन्न कार्यक्रम अनुभागों के दायित्वों का निर्वहन किया।

सुश्री शर्मा कर्तव्य के प्रति अपनी निष्ठा और लगन के कारण समस्त स्टाॅफ के सदस्यों के बीच लोकप्रिय रहीं, उनकी सेवानिवृत्ति पर आकाशवाणी भोपाल, विज्ञापन प्रसारण सेवा आकाशवाणी भोपाल तथा अतिरिक्त महानिदेशक कार्यालय मध्य क्षेत्र-2 कार्यालय भोपाल के सभी अधिकारियों और कार्मिकों की ओर से उनके भावी जीवन के लिये हार्दिक शुभकामनाएं तथा सपरिवार प्रसन्न रहें और दीर्घायु होंने की कामना सहित उन्हें बहुत बधाई।

Source-Rajeev Shrivastav, Blog Report - Praveen Nagdive

S.K.Mohanty DDE AIR Cuttack retires on 28 Feb 2015

Shri S.K.Mohanty, Dy. Director Engineering is attending his superannuation on 28.02.2015. Joined on 18.05.1979 (entry into Govt. Service). He has rendered his services for 35 Years in different stations of All India Radio in various capacities. He has served 32 years in Capital Stations i.e. Guwahati, Cuttack, Patna & Ranchi. He has gained experiences in the Studios, High power Transmitters, FM Transmitter and in Engineering Administration. During the course of working in the Capital Stations in various capacities, he has worked sincerely in the 100 KW MW HMB 140, HMB 105 Transmitters and 300 KW MW S7HP Thomcast Transmitter. He is a sincere, obedient and willing officer. He was an asset for this organization.

Wish him a healthy and prosperous post-retirement life.

Contributed by : A.C. Subudhi, Director Engineering, AIR Cuttack

INDIA v/s UAE Cricket Match Live on AIR

क्रिकेट विश्व कप 2015 टूर्नामेंट के अंतर्गत भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच आगामी 28 फरवरी 2015 (शनिवार) को खेले जाने वाले एक दिवसीय मैच का आंखों देखा हाल आकाशवाणी द्वारा प्रसारित किया जायेगा.
विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट 2015 के अंतर्गत, भारत व संयुक्त अरब अमीरात के बीच पर्थ में खेले जाने वाले एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच का पूरा आंखों देखा हाल आगामी 28 फरवरी 2015 (शनिवार) को आकाशवाणी के भोपाल, इंदौर, ग्वालियर तथा जबलपुर केन्द्रों द्वारा प्रातः 11.30 बजे से शाम 07.00 बजे या खेल समाप्ति तक किया जायेगा।
इस अंतर्राष्ट्रीय एक दिवसीय क्रिकेट मैच का पूरा आंखों देखा हाल आकाशवाणी भोपाल से मीडियम बेव (बैंड) 188.32 मीटर अर्थात् 1593 किलो हर्टज तथा शार्ट वेव पर, प्रातः 11.30 बजे से अपराह्न 04.45 बजे तक 41 मीटर (बैंड) अर्थात् 7430 किलो हर्टज व शाम 05.00 बजे से शार्ट वेव 60 मीटर (बैंड) अर्थात् 4860 किलो हर्टज पर प्रसारित किया जायेगा।

योगदान राजीव श्रीवास्तव, ब्लॉग रिपोर्ट—प्रवीण नागदिवे

Maihar Gharana on DD BHARATI



This week on Maihar Gharana we bring for you two radiantly bright stars of the same Gharana, Sharan Rani Backliwal and Grammy Award Winner Pt. Vishwa Mohan Bhatt who is also the creator of Mohan Veena.
Watch Sharan Rani's delightful Sarod rendetions followed by scintillantly brilliant & soul-enriching performance of Pt. Vishwa Mohan Bhatt on his Mohan Veena including his famous Grammy Award Winning Dhun, "A Meeting By the River" on the next day !
Don't forget to watch these beautiful telecasts televising in "Maihar Gharana" series on Friday, 27th Feb & Saturday, 28th Feb 2015 9 pm onwards (Repeat next day at 1 pm) only on DD BHARATI.

टेक्नो सेवी युवा भी जुडना चाहते हैं आकाशवाणी से...

अभी तक ऐसा माना जाता था कि यंग जनरेशन प्रायवेट एफएम की ओर ज्यादा आकर्षित होती है लेकिन आकाशवाणी इन्दौर के श्रोता अनुसंधान एकांश् द्वारा सोशल मीडिया पर किए जा रहे प्रचार—प्रसार के चलते मध्यप्रदेश के कई टेक्नोसेवी युवा भी आकाशवाणी की ओर प्रेरित हो रहे हैं । इस प्लेटफार्म के माध्यम से हमने कई नये लिसनर तो बनाये ही है साथ ही विज्ञापनों के लिए भी लोगो को  जानकारी प्रदान की जा रही है । साथ ही नये लोगों को इससे जोडने की कोशिश भी की जा रही है । इसका ताजा उदाहरण है आकाशवाणी इन्दौर से सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से जुडी सुश्री मोनिका जैन । मोनिका एक आयटी फर्म की पार्टनर है जो कि वेब साल्यूशन का काम करती है साथ ही हो वो एक अच्छी कोरियोग्राफर भी है इसके साथ सोशल वर्क भी कर रही हैं ।
बचपन से आकाशवाणी सुन रही मोनिका आकाशवाणी के प्रति इतनी अनुरागी थी कि वे किसी भी तरह सिर्फ इसके दीदार करने को लेकर कई दिन से लगातार संपर्क कर रही थी । जब इस बारे में कार्यक्रम अधिकारी श्री रमेश भार्गव से चर्चा हुई तो उन्होने मोनिका को इंटरनेट के बारे में बच्चों के कार्यक्रम के लिए एक टॉक लिखने को कहा । इस पर मोनिका की खुशी से हमें आकाशवाणी पर और गर्व हो गया । 
मोनिका आकाशवाणी आयी, यहॉं का माहौल, आबोहवा, कार्यप्रणाली देखकर इतनी खुश हुई कि अब उनका मानना है कि मैं एक श्रोता के रूप् में तो जुडी ही हुई हॅूं लेकिन मुझे भले ही पेमेंट मिले ना मिले पर मैं आकाशवाणी से जीवन भर इस रूप में भी जुडी रहना चाहती हूूॅं ।
Blog Report-Praveen Nagdive(praveennagdive@gmail.com)

PB Parivar Blog Membership Form