Prasar Bharati

“India’s Public Service Broadcaster”

Pageviews

KEY MEMBERS – AB MATHUR, ABHAY KUMAR PADHI, A. RAJAGOPAL, AR SHEIKH, ANIMESH CHAKRABORTY, BB PANDIT, BRIG. RETD. VAM HUSSAIN, CBS MAURYA, CH RANGA RAO,Dr. A. SURYA PRAKASH,DHIRANJAN MALVEY, DK GUPTA, DP SINGH, D RAY, HD RAMLAL, HR SINGH, JAWHAR SIRCAR,K N YADAV,LD MANDLOI, MOHAN SINGH,MUKESH SHARMA, N.A.KHAN,NS GANESAN, OR NIAZEE, P MOHANADOSS,PV Krishnamoorthy, Rafeeq Masoodi,RC BHATNAGAR, RG DASTIDAR,R K BUDHRAJA, R VIDYASAGAR, RAKESH SRIVASTAVA,SK AGGARWAL, S.S.BINDRA, S. RAMACHANDRAN YOGENDER PAL, SHARAD C KHASGIWAL,YUVRAJ BAJAJ. PLEASE JOIN BY FILLING THE FORM GIVEN AT THE BOTTOM.

Friday, July 29, 2016

Retiring Message from SK Deodhar ADP AIR Pune

 
अपनों से अपनी ही बात


मित्रो, आदरणीय आत्‍मीय,

सन 1978 से लेकर 2016 के आज के दिन जब सरकारी नौकरी की पूर्णता पर सेवानिवृत्ति के द्वार पर हूँ, तब इस प्रदीर्घ यात्रा के कई दृश्‍य और स्‍मृतिचित्र मानस पटल पर उभर रहें है । वैसे भी रेडियो माध्‍यम मन के कैनवास पर कल्‍पना की तुलिका से चित्र और दृश्‍य की निर्मिती का माध्‍यम है और इसीलिए उभर रहा है वह वाक्‍य, जब पहली नियुक्ति के समय तत्‍कालीन केन्‍द्र निदेशक श्री. राजेन्‍द्र प्रसाद ने कहा था कि आकाशवाणी में कार्य का मतलब है, ‘स्‍वान्‍त सुखाय श्रोता हिताय’ अ‍र्थात् अपने समाधान और श्रोता के हित में कार्य का सम्‍पादन । और मुझे यह परितोष है कि उनके इस वाक्‍य के अनुपालन में हमने अपने सर्वोच्‍च को भले ही न छूआ हो पर श्रेष्‍ठ के देने का प्रयास जरूर किया । उन्‍होंने यह भी कहा था कि] ‘शायद वि‍भाग आपको कुछ न दे सकें, मैं तो आपको कुछ दे ही नही सकता,’ और उनकी यह बात आज का वर्तमान है । इस कटू सत्‍य को स्‍वीकारना ही पडेगा । लेकिन यह भी उतना ही सत्‍य है कि आकाशवाणी एक कलाकार को, प्रोडयूसर को, या कहें की प्रोग्रामर को बहोत कुछ देती है, जिसे मैने अनुभव किया है । 

प्रतिस्‍पर्धा के इस यु्ग में प्रतिबध्‍दता भी एक अहम पहलू है । आकाशवाणी को तय करना होगा की उसकी जमीन प्रतिबध्‍दता के लिए है या प्रतिस्‍पर्धा के लिए । 

जब भी साहित्‍य-संस्‍कृति और लोकजीवन में भूमिका की बात आएगी, आकाशवाणी के बिना बात पूरी न हो सकेगी । ऐसे समय में, जब Meaningless pleasure अर्थात् अर्थहीन प्रसन्‍नता बढती जा रही हो, उसे अर्थपूर्ण प्रसारण बनाने में आकाशवाणी की भूमिका आज भी महत्‍वपूर्ण है । हम सभी आकाशवाणी के सहयोगी मित्र जानते है, कि वर्तमान अंदर और बाहर भी अत्‍यंत संघर्षपूर्ण है । और ऐसे समय में अपना संकल्‍प और क्षमता ही आधार है । कहना होगा, दुहराना होगा :

लाख पतझड के बावजूद /
मै अब भी वहीं खडा हॅूं /
मेरी ऑंखों में वसंत है /
सूखी बाहों में बल अनंत है ।

अपने अधिकारियों सहयोगियों, सहकर्मियों के प्रति आदर और आभार व्‍यक्‍त करते हुए सबके प्रति शुभकामना 

विनम्र,

डॉ. सुनील केशव देवधर
09823546592
sunilkdeodhar@gmail.com 

11 comments:

  1. sh SK Deodhar ..wish you a healthy, happy , peaceful and prosperous retired life

    ReplyDelete
  2. जीवन का पड़ाव कभी ऐसा नहीं हो सका कि आपका सानिध्य मिल सके ,किन्तु प्रति शब्द नये अर्थ गढ़ते आपके विचार हमें झकझोरते रहे हम जहाँ भी रहेंगे आपके प्रति यही भाव पूर्ववत् जारी रहेगे ,आपकी शुभभावना से हम आत्मिक रूप से समृध्द बन सकेंगे, आपके शुभकामनाओं की हमें प्रतीक्षा रहेगी ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyavad karuna shankar ji is madhyam se milte rahenge

      Delete
  3. Kindly accept my good wishes for embarking on a new inning of the test match of life. We are aware that you have been the mainstay of our batting and have put up prolific scores on the board all through. Your grit and determination have been your hallmark. Come what may, you had a way-out for all the adversities. An upholder of the true values of All India Radio, a friend in true spirits and a valued owner of positive vibes, you have always been adorable.

    Friend, I remember the days spent together, your joyful personality and your creative pursuit with emotions and earnestness. I wish you all the best for your next inning when you are going to re-tyre your gear to launch on another journey!!

    ReplyDelete
  4. सार्थक और समर्थ प्रसारण पर सुनील देवधर के साथ हमेशा विमर्श होता रहा है। हमेशा कुछ नया करने की छटपटाहट रही है तो अनेक विसंगतियों के प्रति दमित आक्रोश भी दिखा। पर सच्चाई भी कि इस संस्था ने जो हमें दिया उसका प्रतिदान संभव नहीं। सुनील का मेरा साथ 23 वर्षों का है, और आजीवन का भी। नए क्षितिज पर पंख पसारो तुम। ढेरों शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. सार्थक और समर्थ प्रसारण पर सुनील देवधर के साथ हमेशा विमर्श होता रहा है। हमेशा कुछ नया करने की छटपटाहट रही है तो अनेक विसंगतियों के प्रति दमित आक्रोश भी दिखा। पर सच्चाई भी कि इस संस्था ने जो हमें दिया उसका प्रतिदान संभव नहीं। सुनील का मेरा साथ 23 वर्षों का है, और आजीवन का भी। नए क्षितिज पर पंख पसारो तुम। ढेरों शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  6. dhanyvad bhai brahmanandji aur kishor kuch log aur mitra hen jo sirf smritiyon men nahi balki sanson men base hote hen

    ReplyDelete
  7. Deodhar Sir wishing you a healthy, happy peaceful and prosperous life...among so many of your wonderful productions...i specially remember Zinda Kahaniya..god bless you sir

    ReplyDelete
  8. आज का दिन हमें बहुत खोने का दिन लगता है
    अपने चहुं ओर से लुट जाने का दिन लगता है
    एक से बढ कर एक को हम आज छोड चुके
    'कल' से मन में कुछ हलचल सा लगता है
    मैं, तोलेटी चंद्र शेखर, भूतपूर्व प्र. श्रे. लिपिक इन विदाई संदेशों को देते हुए मन भारी हो जा रहा है । कई तरह से । एक तो ये इतने महान हस्तियों के साये में हम थे, पर हतभाग कि उनसे मिल न सके, मिलना तो दूर, उन्हें देख भी न सके । और खाली कुर्सियों को जब कल देखेंगे बाकी तो हालात इस संस्था की सोच में पडेंगे लोग । चलिए, समय बडा बलवान । हम भी आपको आपके विशेष अर्थपूर्ण कार्यार्पण के पूर्णतया संपन्न करने की बधाई देते हैं ।
    इस सोच में न रहे कि आप अकेले हैं
    हमने देखा कि यहां तो लाखों अकेले हैं
    साथ हमारे हमारे सोच हैं, लचीले राहे हैं
    एक नहीं, हमने कई मंजिलों से खेले हैं ।

    बाकी श्रीमान हम आपके अपने चहेते राहों पर अग्रसर होते देखने की चाह रखते हैं । कामयाबी की एक मंजिल आपने सफलतापूर्वक तय कर ली, अब मंजिलों की बात है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. achhe shabd jinke liye kaha jay /
      unhen dekha to nahin hai /magar socha hai bahut unhen paya to nahin hai/ magar khoja hai bahut dhanyvad bhai

      Delete

please type your comments here

PB Parivar Blog Membership Form