Prasar Bharati

“India’s Public Service Broadcaster”

Pageviews

KEY MEMBERS – AB MATHUR, ABHAY KUMAR PADHI, A. RAJAGOPAL, AR SHEIKH, ANIMESH CHAKRABORTY, BB PANDIT, BRIG. RETD. VAM HUSSAIN, CBS MAURYA, CH RANGA RAO,Dr. A. SURYA PRAKASH,DHIRANJAN MALVEY, DK GUPTA, DP SINGH, D RAY, HD RAMLAL, HR SINGH, JAWHAR SIRCAR,K N YADAV,LD MANDLOI, MOHAN SINGH,MUKESH SHARMA, N.A.KHAN,NS GANESAN, OR NIAZEE, P MOHANADOSS,PV Krishnamoorthy, Rafeeq Masoodi,RC BHATNAGAR, RG DASTIDAR,R K BUDHRAJA, R VIDYASAGAR, RAKESH SRIVASTAVA,SK AGGARWAL, S.S.BINDRA, S. RAMACHANDRAN YOGENDER PAL, SHARAD C KHASGIWAL,YUVRAJ BAJAJ. PLEASE JOIN BY FILLING THE FORM GIVEN AT THE BOTTOM.

Friday, July 29, 2016

Retiring Message from VK Sambyal SD Radio Kashmir Jammu


धन्यवाद प्रस्तावना

मित्रो, आकाशवाणी में सेवा का मेरा जो सफर 1988 में CBS AIR Chandigarh से आरम्भ हुआ था वो अब 31 July 2016 को रेडियो कश्मीर जम्मू में सम्पन्न हो रहा है । इन करीब 28 वर्षों के सेवाकाल में मैंने लगभग 15 केन्द्रों अथवा आकाशवाणी के निदेशालय के कार्यालयों में काम किया । अपने कार्यकाल के दौरान अनेक केन्द्रों पर अनेक अधिकारियों एंव सहयोगी कर्मचारियो के साथ मुझे काम करते हुए उनका अपार सहयोग तथा स्नेह एंव मार्गदर्शन मिला । इसके लिए में सभी लोगो का दिल की गहराइयों से धन्यवाद करता हूँ । 

इस अवसर पर सभी साथियों और अधिकारियों के नाम गिनाना तो संभव नहीं होगा परन्तु में इतना ज़रूर कहना चाहूँगा कि 18 July 1988 को मैंने जब CBS AIR Chandigarh से नौकरी आरम्भ कि तो आकाशवाणी की कार्यप्रणाली से पूर्णता अनभिज्ञ था वहाँ वरिष्ठ उद्घोषक Vijay vaishishth और उस समय की Transmission Executive Baljeet Kour ने इतनी अच्छी तरह से मेरे मुझे रेडियो का कामकाज सिखाया कि उसके बाद मुझे Production में सदा सुगमता और सहजता बनी रही वहाँ पर Shri S.N.Talagangi Pex और R.K. Talib जो एक सुधड़ लेखक एंव Broadcaster थे, Sh. K.S.Kang तथा Dr. Anita M Kumar से भी भरपूर सहयोग मिला दिल्ली में Sh. U.D.Dixit, Madam Nooreen Naqavi, Laxmi Shanker Vajpai का पूर्ण सहयोग मिला इसी के साथ विदेश प्रसारण सेवा के पूरे स्टाफ का भी भरपूर सहयोग मिला तथा CBS Delhi के Mohinder Kohli से CBS की बारीकियाँ सीखी उनका भी में धन्यवादी हूँ । DTPES और Directorate General के Central Music Unit के स्टाफ के भी भरपूर सहयोग के लिए में आभार व्यक्त करता हूँ । 

आकाशवाणी Shillong और North Eastern Service AIR Shillong के स्टाफ ने भी उस मुश्किल समय मे काम करने में मुझे पूर्ण सहयोग दिया जिसके लिए में उन्हे धनवाद देता हूँ Station Director C.Lalrosanga का भी धन्यवादी हूँ । 

आकाशवाणी Poonch के स्टाफ का भी सहयोग के लिए धन्यवाद और आकाशवाणी Kargil की Incharge T. Angmo का भी धन्यवाद जिन्होने 1999 के करगिल युद्ध के दौरान काम करने में पूर्ण सहयोग दिया आकाशवाणी Leh व आकाशवाणी Kargil के स्टाफ का भी सहयोग के लिए धन्यवादी हूँ । आकाशवाणी Mumbai में मेरा कार्यकाल एक बेहतरीन सफर रहा जहां केन्द्र निदेशक Vijay Dixit ने पितातुल्य स्नेह दिया । 

आकाशवाणी Kochi की Sherly का भी धन्यवाद जिन्होने Kavarati (Lakshdweep) के 15-20 दिन के प्रवास में मेरी पूरी सहायता की। National Channel, AIR Delhi और आकाशवाणी Gangtok के स्टाफ का भी में धन्यवाद देता हूँ ।

यद्यपि में जम्मू का मूल निवासी हूँ तथापि अपने इस केन्द्र पर कार्य करने का अवसर मुझे सेवाकाल के अंतिम चरण मे ही प्राप्त हुआ । मेरे इस करीब सेवा दो साल के कार्यकाल में जम्मू प्रदेश की संस्कृति संगीत कला और विभिन्न भाषाओ की साहित्य सेवा करने का मुझे अवसर प्राप्त हुआ जिसकी मुझे अपार प्रसन्नता और संतोष है । जम्मू में मेरे कार्यकाल के दौरान रेडियो कश्मीर जम्मू के पूरे स्टाफ और विशेष रूप से प्रोग्राम स्टाफ का भरपूर स्नेह और सहयोग मुझे मिला जिससे बाढ़ जैसी आपदा तथा अन्य चुनौतियाँ का सामना करने में मैं सफल रहा इसके लिए में उन्हे हार्दिक धन्यवाद देता हूँ । 

रेडियो के इस सफर के दौरान यदि जाने अनजाने मे किसी सहयोगी को मेरे किसी कार्य या शब्दों से किसी प्रकार की कोई ठेस पहुंची हो तो मैं उसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ । 

विजय कुमार साम्ब्याल “रंगीले ठाकुर”
rangeeleythakur@gmail.com
vksambyal.air@gmail.com

2 comments:

  1. श्री विजय कुमार साम्ब्याल “रंगीले ठाकुर” जी, मैं तोलाटी चंद्र शेखर, सेवा निवृत्त प्रवर श्रेणी लिपिक, आकाशवाणी, विशाखपट्टणम आपको रिटायरमेंट की शुभकामनाएं देते हुए, आपने आप को बहुत भाग्यशाली समझता हूं । मेरा यह मानना है कि, हम सब में कुछ तो औरों से हट कर है, या कह लिजिए पिछले जन्म का पुण्य, जो इस संस्था में हमें काम करने का मौका मिला । वरना कहां गंगू तेली और कहां राजा भोज की कहावत ही होती । कहावत के लिए माफी चाहता हूं, कि इसमें किसी को कम करने या किसी को उंची कुर्सी पर बिठाने की मेरा कोई ईरादा नहीं है । आप ने किस सादगी से आपके कार्यकाल के दौरान आपको सहायता, साथ देने वालों का नाम ले लिए, वाकई वह काबिले तारिफ है । उंचाई पर पहुंचने के बाद, ये एक शारिरिक कमी ही कहलायेगी कि आप नीचे न झांके वरना सर चकरायेगा । पर बिरले वे होते हैं जो आम रास्ते को छोड, कुछ नये राह कि खोज करते हैं और उंचाई पर पहुंच कर भी गहराइयों को नापते रहते हैं । एक नाम, आपके द्वारा लिए गए नामों मे, से मैं भी काफी करीब रहा । सुश्री नोरिन नक्वीजी, जब वे आकाशवाणी, विशाखपट्टणम के केंद्र निदेशक थी । बस एक उस नाम से मैं आपको अपने करीब के समझता हूं और इतनी बेतकल्लूफी से लिखे जा रहा हूं । भारत को कश्मीर की वादियों की चाह और लगाव हमेशा रहेगी । अब हमने भी देखा और जाना कि वहां के लोग भी कितने मिलनसार हैं, आपके जरिए । आपकी आगे की जिदंगी सदा हंसती रहे, गीतो से मुखरित आप भी हों और ये जहां भी । भला इस दुवा से ज्यादा हम और क्या दे सकते हैं, आप जैसे महान हस्ती को ।

    ReplyDelete
  2. wish him a very happy, healthy, peaceful retired life.......

    ReplyDelete

please type your comments here

PB Parivar Blog Membership Form