Prasar Bharati

“India’s Public Service Broadcaster”

Pageviews

KEY MEMBERS – AB MATHUR, ABHAY KUMAR PADHI, A. RAJAGOPAL, AR SHEIKH, ANIMESH CHAKRABORTY, BB PANDIT, BRIG. RETD. VAM HUSSAIN, CBS MAURYA, CH RANGA RAO,Dr. A. SURYA PRAKASH,DHIRANJAN MALVEY, DK GUPTA, DP SINGH, D RAY, HD RAMLAL, HR SINGH, JAWHAR SIRCAR,K N YADAV,LD MANDLOI, MOHAN SINGH,MUKESH SHARMA, N.A.KHAN,NS GANESAN, OR NIAZEE, P MOHANADOSS,PV Krishnamoorthy, Rafeeq Masoodi,RC BHATNAGAR, RG DASTIDAR,R K BUDHRAJA, R VIDYASAGAR, RAKESH SRIVASTAVA,SK AGGARWAL, S.S.BINDRA, S. RAMACHANDRAN YOGENDER PAL, SHARAD C KHASGIWAL,YUVRAJ BAJAJ. PLEASE JOIN BY FILLING THE FORM GIVEN AT THE BOTTOM.

Monday, November 19, 2018

National Public Service Broadcasting Day organized by BES Chennai Chapter













National Public Service Broadcasting Day was organized by BES Chennai Chapter on 12th November at Multi Track Auditorium, AIR, Chennai. 

Dr. Sumanth Raman graced the occasion as Chief Guest and emphasisized the importance of public service through ALL INDIA RADIO & DOORDARSHAN.

Shri V Appakutty graced the occassion as Guest of Honour and spoke about the relevance of Public Services Broadcasting. In his address, he articulated the role played by AIR in bringing green revolution in 1960 and also 1971 Indo-Pakistan War in creating Bangladesh. He also advocated the role to be played in future regarding the empowerment of women. 

The relevance of Public Service was brought to the fore by undersigned in todays' multifarious 
delivery modes of reception by public by maintaining neutrality, simplicity etc. in coverage by AIR & DD.

On the occasion of NPSD , Chennai chapter of BES ( I) , two of the seniormost professionals of AIR & DD - one from Engineering & Programme , namely, Shri R T Chari, Chief Engineer (Retired) ( SZ) AIR & DD and Dr. V. Senapathy, DDG ( P) , DD Chennai were felicitated and honoured.
Shri Chari shared his journey through various phases in life in the department and re-lived those times with anecdotes. Similarly Shri Senapathy also reminisced the challenges in programming he had encountered in his journey in the department. 

The function was well received and appreciated by all. Chennai DD & AIR covered the event. With all humility, we would like to state that the function was successfully conducted..

Just published book of Rajesh Bhat, ADP, DG:AIR, N. Delhi to be released on 21.11.2018


 

Hon’ble Minister in Prime Minister’s Office and eminent writer, Dr Jitendra Singh has consented to release my just published book, ``Radio Kashmir in Times of Peace and War'', on Wednesday, 21st November at 1 pm at Press Club of India, New Delhi. ......

Source : Rajesh Bhat

AIR मथुरा केन्द्र का वाट्सएप जारी




आकाशवाणी मथुरा FM 102.2 मेगा हर्ट्ज अपना प्रसारण विगत दिनों प्रारंभ कर दिया है | इसके पूर्व आप मथुरा केन्द्र के प्रसारण को आप मीडियम वेव पर सुना करते थे |

आकाशवाणी मथुरा केन्द्र के कार्यक्रम प्रमुख डॉ सत्यव्रत सिंह जी ने अपने श्रोताओं की सहभागिता को बढाने के लिये मथुरा केन्द्र को whatsapp no से जोड दिया है |

अत: आप आकाशवाणी मथुरा केन्द्र के किसी भी कार्यक्रम मसलन - फिल्म संगीत, स्वाल जबाबआदि को केन्द्र के वाट्सएप नम्बर 9412225575 पर भेज सकते हैं |

बहरहाल, उपरोक्त पहल व प्रयास के लिए हमारी ओर से तथा हमारे अहिंसा रेडियो श्रोता संघ, रायपुर छत्तीसगढ़ के सभी सदस्यों की ओर से कार्यक्रम प्रमुख डॉ सत्यव्रत सिंह जी के साथ ही आकाशवाणी मथुरा परिवार को हार्दिक बधाई व बहुत शुभकामनाएं..!

Contributed By : Jhavendra Kumar Dhruw, Raipur (C. G.) MO: 09826168122

डी.टी. एच. पर देख सकेंगे दूरदर्शन गोरखपुर..




डी.टी. एच. पर देख सकेंगे दूरदर्शन गोरखपुर..

स्रोत:- आकाशवाणी गोरखपुर का फेसबुक अकाउंट

Inspiration - Mumbai Kids Build Unique Machine That Turns Banana Leaf Into Food Packaging!

EverGreen is cost-efficient as a metre of banana leaf costs about Rs 5, while plastic and aluminium foil cost anywhere between Rs 40 to Rs 60 per metre.

Plastic cutlery, newspaper packaging, or even aluminium foil not only cause health hazards but also hamper food security. While the aluminium from the foil leaching into your hot food is said to cause Alzheimer’s and kidney ailments, plastic and ink from newspapers are carcinogenic.

But an award-winning team of 16-year-olds from Mumbai has found an alternative.

Whether it is serving Kerala’s traditional sadhya (a feast of traditional vegetarian dishes) or steaming the Mangaluru delicacy pathrode (made from roasted colocasia leaves, stuffed with rice flour and flavourings such as spices, tamarind and jaggery), the banana leaf has been an intrinsic part of Indian culture.

The students at the city-based On My Own Technology (OMOTEC)
Institute, have leveraged these qualities of the locally-available and financially viable leaves to develop a unique packaging solution.

Christened EverGreen, they have built a prototype of a packaging machine that not only secures food hygiene but also has the power to ensure additional income to farmers.


Sunday, November 18, 2018

नहीं रहे आकाशवाणी दूरदर्शन गोरखपुर के वरिष्ठ नाटक कलाकार श्री दुर्गा प्रसाद श्रीवास्तव ।


लगभग चालीस दशक तक रंगमंच पर सक्रिय रह कर तरह तरह के विभिन्न चरित्रों का हू ब हू अभिनय करते हुए के आकाशवाणी और दूरदर्शन गोरखपुर के वरिष्ठ कलाकार और गोरखपुर के रंगमंच की शोभा श्री दुर्गा प्रसाद श्रीवास्तव का 16नवम्बर को आकस्मिक निधन हो गया ।वे अभिनय,नाटक लेखन और मंचन से गहरे रुप में जुड़े थे।हास्य अभिनय में निपुण थे।
आकाशवाणी और दूरदर्शन से उनके लिखे और अभिनीत अनेक नाटकों और झलकियों का प्रसारण होता रहा है।अभी कुछ दिन पहले उन्हें गोरखपुर थियेटर एसोशिएशन द्वारा सम्मानित भी किया गया था।आकाशवाणी गोरखपुर और गोरखपुर थिएटर एसोशिएसन ने उनके निधन को रंगमंच की अपूरणीय क्षति बताते हुए अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

प्रसार भारती परिवार प्रार्थना करता है की ईश्वर उनके आत्मा को शांति दे और उनके शोकाकुल परिवार को इस संकट की घडी को सामना करने की शक्ति प्रदान करे।

द्वारा योगदान :- श्री प्रफुल्ल कुमार त्रिपाठी, लखनऊ,darshgrandpa@gmail.com

Dr.Rafeeq Masoodi former ADG Doordarshan & Prof.Nasim Shifai Tagore lit awardee share dice to give away 8th SHESRANG Music Awards




Music club of Kashmir organised it's 8th season on 15th and 16th November at Tagore Hall Srinagar with the collaboration of JKAACL & JK BANK.Today annual musical festival is a 8 year old brain-child of top most light music singer -composer Waheed jeelani.On the first many legends performed on the stage and second d day saw new voices mismirising jam packed Tagore Hall.Kid Shifa jilani sang famous sufi composition HAR MOKH BAR TAL .....in most professional way under the supervision of her father ,perhaps her 1st stage performance. Legend sufi singer Ustad Rashid Hafiz as ever gave stirlating performance. Shazia Bashir tandem Sahil too performed on the stage.
Second session saw the honors being done of 8th Annual Sheshrang Awards to Rehmatulla khan,Abdul Rashid shah,Abdul majid shah,Adil manzoor shah,Late Ghulam Nabi sheikh and Shazia Hamid.
Honors were done by legend kashmiri writer Prof.Naseer ShifaI and former ADG Doordarshan Dr.Rafeeq Masoodi, Shabir Mujahid former ddg dd,umar Imtiyaz film maker and chairman MUSIC CLUB MR.WAHEED JILANI and Muhammad Amin Bhat the household name in kashmir.

Forwarded By:Rafeeq Masoodi ,rafeeq_masoodi@yahoo.co.in

गोविन्द राव एन राठौर - ऑल इंडिया रेडियो कर्नाटक क्लब की ओर से अवॉर्ड



ऑल इंडिया रेडियो कर्नाटक क्लब की ओर से प्रति वर्ष दिए जाने वाले स्टेट लेवल अवॉर्ड के तहत २०१७-१८ वर्ष के केंद्र सरकार की योजना मेरिट ऑफ सर्टिफिकेट के लिए "बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ" पर आधारित "मन्ना मगल होना किरीट" डॉक्यूमेंट्री फीचर को स्टेट लेवल पर प्रथम पुरस्कार मिला है। जिसकी रचना गोविन्द राव एन राठौर ने किया है। इस अवसर पर आज अवॉर्ड स्वीकार करते हुए कार्यक्रम अधिशाषी व कार्यक्रम निर्माता श्रीमती अंजना यातनूर और रचनाकार गोविन्द राव एन राठौर।

Inspiration - The Fearless Activist Who Challenged Terrorism With Education.


Malala Yousafzai has become a global icon for her fearless efforts advocating for every child’s right to education, even while living under increasingly dangerous circumstances.

Malala born and raised in a country where only boys were allowed an education.On July 12, 1997, Malala Yousafzai was born in Mingora, a city in the Swat District of Pakistan.Malala grew up in awe of her father, an activist who believed the lack of education was the root of all of Pakistan’s problems. She attended a public school founded by her father and developed a thirst for knowledge from an early age.

As class attendance dwindled for fear of retribution, Malala refused to renounce her right to an education. Her father noticed her passion for standing up against the Taliban’s oppressive campaign and took Malala to Peshawar to speak at the local press club. There, she gave an impassioned speech to an audience of newspapers and TV channels. She asked them, “How dare the Taliban take away my basic right to education?”
On October 9, 2012, Malala was riding home from school on a bus with her friends when a masked gunman jumped aboard. He brandished a gun at the children and demanded to know which girl was Malala. As her friends turned to look at her, he fired three shots. One bullet hit Malala on the left side of her head, traveling down her neck and embedding itself in her shoulder. Panic ensued as she collapsed and the gunman made his escape.

An ambulance was called and 15-year-old Malala was airlifted to a military hospital in critical condition. After a five-hour operation, the bullet was removed, but she was far from stable.  she was transferred to Germany and then the United Kingdom for treatment.
The murder attempt spurred worldwide outrage and protests across Pakistan. A right-to-education bill was passed in her country for the first time, and she receives global support when promoting her cause.

On July 12, 2013, her 16th birthday, Malala was flown to New York to give a passionate speech at the United Nations, where she urged the world to challenge extremism with education. Later that year, she published her first book, I Am Malala: The Girl Who Stood Up for Education and Was Shot by the Taliban.
Since then, Malala has continued her activism with renewed courage. In October 2014, at age 17, Malala became the youngest person and only Pakistani to receive a Nobel Peace Prize. On her 18th birthday, she opened a school for Syrian refugee girls in Lebanon. At the opening, her first words as an adult were a call-to-action for world leaders to invest in “books, not bullets.”With over 40 honorary awards to her name, Malala Yousafzai has become a messenger of peace
Today, Malala resides in Birmingham, UK, where she has been proudly accepted to Oxford University. There she will study Philosophy, Politics, and Economics to strengthen her influence and further her advocacy for education.

Throughout her youth, Malala has shown exceptional strength and courage in the face of terrorism. The attempt on her life only served to embolden her belief in a better, more equal world. Her voice has brought education to thousands of children and has inspired millions more. Malala Yousafzai is proof that age has no bearing in the fight for what is right, that anyone can and should raise their voice to improve the world around them.

Source and Credit : https://www.goalcast.com/2018/03/07/malala-yousafzais-life-story/

दिल्ली : आकाशवाणी और दूरदर्शन के कुछ सेवानिवृत अधिकारियों का मिलन-कार्यक्रम

 


दिनांक 17 नवम्बर को नई दिल्ली के कस्तूरबा गांधी मार्ग पर स्थित CSOI Club में आकाशवाणी और दूरदर्शन के कुछ सेवानिवृत अधिकारियों का मिलन-कार्यक्रम आयोजित किया गया।इस अवसर पर कुछ सेवारत कार्यक्रम अधिकारी मित्र भी मौजूद रहे।पुरानी यादें आज फिर ताज़ा हुईं।.......

Saturday, November 17, 2018

और आज ही ट्रांजिस्टर के ईजाद के लिए मिला था नोबेल पुरस्कार ।




1947में 17नवम्बर को आज के ही दिन श्री जॉन बर्दीन एक अमेरिकी भौतिक वैज्ञानिक थे जिन्हें श्री विलियम शोक्ली और श्री वॉल्टर ब्रैट्टैन के साथ ट्रांज़िस्टर इजाद करने के लिये 1956 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला था ।
वे इतने प्रतिभावान थे कि 1972 में अतिचालकता का बी॰सी॰एस॰ सिद्धांत बनाने के लिये उनको एक बार फिर पुरस्कार से नवाज़ा गया।
ब्लॉग रिपोर्ट- प्रफुल्ल कुमार त्रिपाठी, लखनऊ।मोबाइल9839229128

Share your ideas for PM Narendra Modi's Mann Ki Baat on 25th November, 2018

As always, PM Narendra Modi looks forward to sharing his thoughts on themes and issues that matter to you. The Prime Minister invites you to share your ideas on topics he should address on the 50th Episode of Mann Ki Baat.
Send us your suggestions on the themes or issues you want the Prime Minister to speak about. Share your views in this Open Forum or alternatively you can also dial the toll free number 1800-11-7800 and record your message for the Prime Minister in either Hindi or English. Some of the recorded messages may become part of the broadcast.
You can also give a missed call on 1922 and follow the link received in SMS to directly give your suggestions to the Prime Minister. And stay tuned to Mann Ki Baat at 11:00 AM on 25th November, 2018

Book by Rajesh Bhat Programme Officer of AIR Directorate released.


A new book unravels historical facts about how Radio Kashmir has over the past seven decades countered incessant malicious propaganda by various underground and FM stations that operate round-the-clock from across the border.Replete with rare pictures, transcripts and documents from the archives of Jammu and Kashmir, “Radio Kashmir: In Times of Peace & War” reveals how Radio Pakistan and its notorious Radio Trarkhal beamed vicious misinformation against India to create unrest in the minds of people of Kashmir while trifling with their sentiments and identity.
It also says how under ‘Operation Topac’, the ISI launched more radio stations, mostly along the Indo-Pak border to bombard airwaves with hostile ranting.In addition to Jammu and Kashmir, Radio Pakistan had a meticulously planned coverage to target certain communities living in Indian cities, including New Delhi, Jaipur, Kanpur, Bikaner, Ambala, Saharanpur, Meerut, Aligarh, Farrukhabad, and parts of Nepal, rousing anti-India feelings, the book says.And how Radio Pakistan and Azad Kashmir Radio acted as a bridge in establishing communication channels between the infiltrators and their masters. These messages, colloquially called Taranas, were most often in Gojri, Pahari, Urdu and Punjabi, spoken on either side of LoC and even in the Punjab province of Pakistan, according to the book.

Brought out by Stellar Publishers, this book emanates from research, based on a doctoral study by author Rajesh Bhat (posted in the Policy Division of Directorate General, All India Radio), who had also served as Special Correspondent, Daily Excelsior in terms of the pivotal function performed by a public service broadcaster like Radio Kashmir during the times of both peace and war since 1947.
The book goes on to describe how Radio Kashmir performed an immensely significant role in safeguarding the strategic interests of both the Government and the masses by addressing the core issues concerning the welfare and security of a nation.And also how industriously it has attempted to weave a cohesive social and cultural fabric in Jammu and Kashmir in the face of turmoil, unrest and proxy war being waged by seditious elements.Set up on December 1, 1947, with a makeshift studio in Sri Ranbir High School in Jammu, to countermand the specious rumours and fabricated information being disseminated to the refugees pouring in post-Partition, Maharaja Hari Singh inaugurated the station with his maiden broadcast to allay the fears of the people in the turbulent Valley.
To fight on another fraught front, the state government set up another unit of Radio Kashmir at Srinagar on July 1, 1948, with the prime aim to speak to the people in their own language, and also maintain harmony and brotherhood through the broadcasts, while effectively and skilfully countering the Pakistan propaganda.

The two wings of Radio Kashmir at Jammu and Srinagar, which initially started functioning under the J&K Information Department, continued to be under the control of the state Government till April 1954 with this unique name, although they were relaying general programmes and news from AIR, which was already functioning in the pre-Independence era. (PTI).

Contributed by:-Shri.Jhavendra Kumar Dhruw ,jhavendra.dhruw@gmail.com.

Source : http://www.dailyexcelsior.com/rajesh-bhats-book-airwaves-war-indo-pak-conflict-released/?fbclid=IwAR3mn_PqKeZuGhf3rLVw2QcumcYPV0XVMZ4vKNFuP6Z94KI8D_nqKYliCt4

A Woman who has cremated 2000 plus uncared dead bodies,shared her experience at AIR Dharmapuri.



In a world of self-centered people abound in plenty here is a woman who has cremated about 2036 dead bodies in the past 10 years that too persons who have no kith and kin and left uncared by this society. Smt.S.Kalaivani of Salem district of Tamil Nadu was invited by AIR FM LRS Dharmapuri, Tamil Nadu for the weekly Live Programme Makkal Medai (Peoples' Forum) on 15/11/2018 between 9.30 am and 10.30 am. The Guest narrated certain painful memories. Listeners' in large number participated and expressed their encouragement for the selfless service by Smt.Kalaivani. Shri.R.Murali PEX co-ordinated the live programme.

Contributed by:-PEX AIR DHARMAPURI ,airdpiprog@gmail.com.

Athletic Competition for wards of Central Government Employees at Vinay Marg Sports Complex, Chankyapuri, New Delhi on 02 December 2018 (Sunday) at 9.00 AM




No.1/1/2018-19-CCSCSB
Government of India
Ministry of Personnel, Public Grievances & Pensions
Department of Personnel & Training
CENTRAL CIVIL SERVICES CULTURAL & SPORTS BOARD

Room No. 361, ‘B’ Wing, 3rd Floor,
Lok Nayak Bhavan, Khan Market, New Delhi-3

Dated : 12.11.2018
CIRCULAR

Subject : Athletic Competition for wards of Central Government Employees

Central Civil Services Cultural & Sports Board has been organizing the Athletic Meet for Central Government employees for the last many years. There were demands from a large number of participants and employees that a similar Athletic events may also be started to their wards to motivate and encourage them.

2. It is, therefore, proposed to organize Athletic Competition for wards of Central Government Employees at Vinay Marg Sports Complex, Chankyapuri, New Delhi on 02 December 2018 (Sunday) at 9.00 AM. There is NO ENTRY FEE for this competition. The entry should be sent in the prescribed form to the Board’s Office latest by 28th November 2018 at Room No. 361, ‘B’, Lok Nayak Bhavan, Khan Market, New Delhi — 110003 or by email at sportsdopt@gmail.com.

3. The competition will be held in the following categories:-
AGE CATEGORYBORN BETWEENEVENTS
08-10 Yrs (Boys & Girls) 01 Dec 2008 to 30 Nov 2010 60M, Spoon Race
10-12 Yrs (Boys & Girls) 01 Dec 2006 to 30 Nov 2008 100M, 200M, Long Jump
12-14 Yrs (Boys & Girls) 01 Dec 2004 to 30 Nov 2006 100M, 200M, Long Jump
14-16 Yrs (Boys & Girls) 01 Dec 2002 to 30 Nov 2004 100M, 200M, 400M, Long Jump
Spouse (Men & Women) 100M




4. Wards of the following categories of employees are not eligible for participation in this competition:-

(a) Uniform personnel in Defence Services/Para Military Organisations/Central Police Organisation / Police / RPF / CISF / BSF / ITBP / NSG etc.

(b) Employees of Autonomous bodies/undertaking/Public Sector Banks/ Corporations even though administratively controlled by the Central Ministries.

(c) Casual / Daily wages workers.

(d) Employees attached to offices on temporary duty.

5. Decision of the Judges will be final and no appeal against their decision would be entertained.

6. For further queries, Sh. T.K. Rawat (9899232337), Athletic Convener CCSCSB may be contacted.

7. This circular may be given wide publicity.

(Kulbhushan Malhotra)
Secretary (CCSCSB)

Source & credit :https://www.gconnect.in/news/athletic-competition-central-government-employees.html

Friday, November 16, 2018

भावपूर्ण श्रद्धांजलि : Remembering Shri A. Anandan, former Helper, DDK Chennai on his 2nd death anniversary.


Shri A Anandan, former Engineering Helper of Doordarshan Kendra, Chennai had passed away on this date i.e. 16th of November two years back due to illness. 

Prasar Bharati Parivar pays emotional tribute to him on his second death anniversary and request colleagues / friends connected with his family to communicate our feelings to them and share their well being with us, using the comment button below or mailing at pbparivar@gmail.com.

PB Parivar volunteers talked to Rajtilak the only son of late A. Anandan and conveyed remembrances on behalf of Parivar. Rajtilak, 32 is working as a casual worker in private sector. his two sisters are married and his mother (wife of late Shri Anandan) is suffering from Stomach Cancer. We request all PB parivar members to kindly pray for her health and recovery..

भावपूर्ण श्रद्धांजलि : Remembering Shri Sali Mathew, former SEA, LPT Changnacheri on his 3rd death anniversary.


We lost Shri Sali Mathew, SEA, LPT Changnacheri on 16.11.2015 three years back. He was survived with his mother & sisters.

Prasar Bharati Parivar pays emotional tribute to him on his third death anniversary and request colleagues / friends connected with his family to communicate our feelings to them and share their well being with us, using the comment button below or mailing at pbparivar@gmail.com.




National Public Broadcasting day Celebrations -BES(I) Thanjavur Chapter & All India Radio,Tiruchirapalli on 12th November





Source Chitra Muthu

CEFU sweeps both PSB awards of AIR announced by CEO on 12.11.2018









On 12 November every year, All India Radio - Akashvani declares two coveted awards for the best programmes in two categories – Public Service Broadcasting and GandhianPhilosophy. November 12 is observed by Prasar Bharati as Public Service Broadcasting Day to commemorate Gandhiji’s only visit to Broadcasting House, New Delhi on this day in 1947 to address refugees gathered in Kurukshetra, following the Partition.

The Central English Features Unit (CEFU) is proud to share that it swept BOTH the awards for the year 2018. AIR has launched this competition since 2001, to honour radio productions that tell inspiring and unheard stories woven around the above mentioned themes.

Kudos to the CEFU team comprising Basudha Halder Banerji (script & production) and Shamayita Das(assistance in production) ! 

आकाशवाणी के पूर्व अपर महानिदेशक (मध्य क्षेत्र-1) श्री गुलाब चंद द्वारा मां की स्मृति में समारोह


आकाशवाणी के पूर्व अपर महानिदेशक(मध्य क्षेत्र-1) श्री गुलाब चंद प्रतिवर्ष वात्सल्य की प्रतिमूर्ति अपनी स्वर्गीया माताजी श्रीमती गुरदी देवी की स्मृति में एक समारोह आयोजित करते हैं।इस वर्ष दि. 19नवंबर को लखनऊ के यू.पी. प्रेस क्लब परिसर में आयोजित होनेवाले समारोह में आकाशवाणी की टाप ग्रेड की लोक गायिका और पिछले चार दशक से ब्रज लोकसंगीत को देश विदेश में फैलाने वाली श्रीमती माधुरी शर्मा(मथुरा) और प्रसिद्ध विदुषी साहित्यकार ,संपादिका डा.आरती स्मित का सम्मान होगा।प्रोफेसर ऊषा सिन्हा की ओर अध्यक्षता में चलने वाले समारोह के मुख्य अतिथि पूर्व अपर जिला जज श्री अलख नारायण होंगे ।इसके अलावा आकाशवाणी-दूरदर्शन और प्रेस मीडिया के अनेक नामी गिरामी लोग भी शिरकत करेंगे।

बुन्देली लोक कला संगम संस्थान, झांसी की लखनऊ शाखा के बैनर तले यह आयोजन सम्पन्न होगा।श्रीमती लक्ष्मी और श्री गुलाब चंद ने मातृसत्ता की पद प्रतिष्ठा के इस प्रतीकात्मक आयोजन में सभी की सहभागिता को आमंत्रित किया है।ज्ञातव्य है कि इसके पूर्व के आयोजनों में अरुणाचल के पूर्व राज्यपाल श्री माता प्रसाद,लेखिकाएं क्रमश:डा.वर्षा सिंह(सागर),डा.माधवी सिंह(वाराणसी) ,कामिनी अग्रवाल, डा.शरद सिंह(सागर),मीडिया से डा.राज्यश्री बनर्जी(आगरा) और सुश्री मीनू खरे,(बरेली)और समाजसेविका श्रीमती यशोदा देवी(लखनऊ)आदि भी सम्मानित हो चुकी हैं।आकाशवाणी दूरदर्शन परिवार की इस आयोजन की सफलता के लिए अग्रिम शुभकामनाएं ।

ब्लॉग रिपोर्ट- श्री प्रफुल्ल कुमार त्रिपाठी,लखनऊ।मोबाइल नं.9839229128

Design a Logo for Union Public Service Commission Contest. Last date is 11-12-2018 upto 6 PM

The concept of a merit based modern Civil Services in India was introduced in 1854, following Lord Macaulay’s Report of the Select Committee of British Parliament. The Report recommended that patronage based system of East India Company should be replaced by a permanent Civil Service based on a merit based system with entry through competitive examinations. For this purpose, a Civil Service Commission was setup in 1854 in London and competitive examinations were started in 1855. Earlier the exam was only held in London, however, from 1922 onward the Indian Civil Service Examination began to be held in India also, first in Allahabad and later in Delhi with the setting up of the Federal Public Service Commission. With the promulgation of the Constitution of India in January 26, 1950, the Federal Public Service Commission came to be known as the Union Public Service Commission.

The Union Public Service Commission is a Constitutional body entrusted with the following important functions:-
1.Conduct examinations for appointment to the services of the Union. Some of its flagship exams are Civil Services, Indian Forest Services, Indian Engineering Services, Combined Medical Services, National Defence Academy Exam, Combined Defence Services for selection to coveted services of the Government of India.
2.Direct recruitment by selection through interviews.
3.Appointment of officers on promotion / deputation / absorption.
4.Framing and amendment of Recruitment Rules for various services and posts under the Government.
5.Disciplinary cases relating to different Civil Services.
6.Advising the Government on any matter referred to the Commission by the President of India.

UPSC intends to create a ‘logo’ reflecting its role, functions which can be easily understood by the common man. The logo shall endeavour to communicate the ethos and excellence of the Commission in discharging its Constitutional mandate. Further details in respect of the Commission may be seen at the website www.upsc.gov.in

The Designer of the finally selected Logo will get a prize of Rs 75,000/- and would be required to give copyright of the design to UPSC. (The prize money will be payable after deduction of TDS)

Source & full details pl. click here : 

Thursday, November 15, 2018

आकाशवाणी गोरखपुर ने सरकारी प्राथमिक विद्यालय के बच्चों के साथ मनाया बाल दिवस

14 नवम्बर, बाल दिवस के दिन को आकाशवाणी गोरखपुर ने सरकारी प्राथमिक विद्यालय तिलौली, सरदार नगर, गोरखपुर के बच्चों के साथ मनाया। इस अवसर पर "स्वच्छता अभियान" विषय पर केंद्रित एक निबन्ध प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। सम्पूर्ण आयोजन के दौरान इन छोटे छोटे मासूम, पर संस्कारों एवं मेधा से परिपूर्ण बच्चो के चेहरे पर खुशी, उमंग और उत्साह का माहौल साफ साफ परिलक्षित हो रहा था। आयोजन को सफल बनाने में आकाशवाणी गोरखपुर की कार्यक्रम प्रमुख डॉ0 अनामिका श्रीवास्तव एवं वरिष्ठ कार्यक्रम अधिशासी श्री विनय कुमार जी के साथ विद्यालय की प्रधानाध्यापिका अल्पा निगम और उनके सहयोगी शिक्षक तथा कर्मचारियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही। इस अवसर की कुछ तस्वीरें...




ब्लॉग रिपोर्ट : अजित कुमार राय ,आकाशवाणी गोरखपुर

Inspiration - दादी की रसोई में 5 रुपये में 500 लोगों को मिलता है खाना

समाजसेवी अनूप खन्ना दादी की रसोई में बना खाना लोगों को खिलाने के लिए नोएडा सेक्टर 29 में आते हैं। यहां लोग उन्हें सिर्फ 5 रुपये देते हैं और वो उन्हें इन पैसों में भरपेट खाना खिलाते हैं।
खाना ऐसा कि खुशबू से ही भूख लग जाए। दादी की रसोई में खाना सिर्फ देसी घी में बनाया जाता है। सिर्फ 5 रुपये में लोगों को भरपेट खाना खिलाया जाता है। गरीब हो या फिर अमीर हर किसी को दादी की रसोई में बने इस खाने की खूशबू अपनी ओर खींच लाती है। एक बार आपने अगर यहां खाना खा लिया तो आप फिर बार-बार यहीं पर खाना खाने के लिए आएंगी। कहते हैं जिस घर में बड़े-बुज़ुर्गों का आशीर्वाद होता है वहां हमेशा खुशियां रहती हैं और जिस खाने में दादी के हाथों का स्वाद हो तो आप समझ ही जाइए कि वो कितना स्वादिष्ट होगा। अब आप अपने घर पर खाना खाते-खाते बोअर हो चुकी हैं तो दादी की रसोई में आपका भी स्वागत है।

वैसे दादी की रसोई गरीब और जरुरतमंद लोगों के लिए है। ऐसे लोग जिन्हें दिन में पेटभर खाना भी नसीब नहीं होता। दादी की रसोई आज कल से नहीं बल्कि पिछले 2-3 सालों से ये काम कर रही है। अनूप खन्ना 500 लोगों का खाना बनाकर नोएडा के सेक्टर 29 के गंगा कॉम्प्लेक्स में लेकर आते हैं। टेबल पर खाना लगाते हैं और फिर खाना खाने वालों की लंबी लाइन लग जाती है। 5 रुपये दो और दादी की रसोई में बना खाना खाओ। दोपहर 12 बजे से 2 बजे के बीच में अनूप खन्ना का सारा खाना खत्म हो जाता है। कभी-कभी तो उससे पहले भी।

अनूप खन्ना का कहना है कि वो चाहते हैं की दादी की रसोई सिर्फ नोएडा में ही नहीं बल्कि भारत के कई और शहरों में भी होनी चाहिए वो इसके लिए मेहनत भी कर रहे हैं। वैसे यहां दादी की रसोई का खाना खाने वाले लोग अनूप खन्ना को सैंटा मानते हैं क्योंकि वो गरीबों को खिलाने के नाम पर यहा सस्ता  खाना देने के नाम पर लोगो के स्वाद को बनाए रखने की हमेशा ही कोशिश में लगे रहते हैं।

अनूप खन्ना ने दादी की रसोई की शुरूआत साल 2015 में की थी। एक खास बातचीत में उन्होंने बताया कि उनकी दादी सिर्फ खाने में खिचड़ी ही खाती थी और हमेशा कहती थी कि मैं सिर्फ खिचड़ी खाती हूं मेरे खाने के जो पैसे बचते हैं उससे गरीबों को खाना खिलाया करो। आज भी समाज में गरीब और जरुरतमंद लोगों की कमी नहीं है दिन में भरपेट खाना मिल जाए इसकी जंग करते आज भी हज़ारों लोग आपको सड़कों पर मिल जाएंगें। खाने के नाम पर पेट भरने के लिए वो कुछ भी खा लेते हैं ऐसे में अनूप खन्ना भले ही 5 रुपये लेते हैं लेकिन वो 5 रुपये में लोगों को भरपेट देसी घी में बना स्वादिष्ट खाना ही खिलाते हैं।

अनूप खन्ना की इस कोशिश के लिए उन्हें उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव भी सराह चुके हैं। 2015 से शायद ही ऐसा कोई दिन बीता हो जब अनूप खन्ना की दादी की रसोई का खाना यहां ना आया हो। उनकी सच्ची निष्ठा और लोगों के लिए उनका ये प्यार उन्हें समाज में एक नयी पहचान दे रहा है। लोगों से उन्हें इतना प्यार और आशीर्वाद मिल रहा है कि वो अपने इस काम को और भी मेहनत से अच्छी तरह से कर पाने में कामयाब हो रहे हैं। आप सोचते होंगे की 5 रुपये ही तो ले रहे हैं खिचड़ी खिला देते होंगे। लेकिन नहीं ऐसा नहीं है। दादी की रसोई में खाने के लिए कई लजीज़ पकवान हैं। देसी घी में तड़का लगायी हुई दाल, अच्छी क्वालिटी के चावल, रोटी, आचार, सलाद सब्जी सब होता है। दादी की रसोई में मिलने 5 रुपये में मिलने वाले खाने में स्वाद के साथ साथ आपकी सेहत का भी पूरा ध्यान रखा जाता है।
सोर्स  और क्रेडिट : https://www.herzindagi.com/hindi/diary/dadi-ki-rasoi-cheap-rate-food-in-india-article-13162
 एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं। ये भी पढ़ें- पत्नी ने अचार के लिए बनाया था सिरका, पति ने खड़ा कर दिया लाखों का कारोबार दो पहिया वाहनों के चालक अगर हैलमेट नहीं पहनें तो उन्हें नहीं मिलता भोजन समाजसेवी अनूप खन्ना (59 वर्ष) से जब कम पैसों में पौष्टिक खाना देने की वजह पूछी गयी तो उन्होंने गांव कनेक्शन संवाददाता को फोन पर बताया, "मैं चाहता तो ये खाना और कपड़े मुफ्त में भी दे सकता था, पर कम पैसे लेने की वजह सिर्फ यह है कि यहां भोजन करने वाले लोगों का स्वाभिमान बना रहे। हर तबके के व्यक्ति पांच रुपए देकर सम्मान से भोजन करते हैं। वही बात कपड़ों के लिए लागू है यहां जरूरतमंद लोग अपनी मनपसंद के कपड़े 10 रुपए देकर ले सकते हैं।" दादी की रसोई में खाना खाने वाले लोग एक भिक्षुक से लेकर दुकान के मालिक तक शामिल हैं। इस रास्ते से गुजरने वाले लोग भी इसका स्वाद चखे बिना आगे नहीं बढ़ते। 'दादी की रसोई' खोलने का विचार अनूप के दिमाग में कैसे आया, इस सवाल के जबाब में अनूप ने कहा, "मेरी माँ बहुत बीमार रहती थी तो उन्हें खाने में हल्का भोजन यानि खिचड़ी देते थे। एक दिन उन्होंने खाते समय कहा कि तुम लोगों ने मेरे खाने में बहुत कटौती की है, इसलिए जितना बचाया है उसे जरूरतमंदों को खिलाना। मेरे बच्चों ने उसी समय इसका नाम 'दादी की रसोई' दे दिया।" ये भी पढ़ें- देसी गाय के गोबर से बनाते हैं वातानुकूलित घर 'दादी माँ का सद्भावना' स्टोर पर सिर्फ दस रुपए में मिलते हैं मनपसंद कपड़े। अगस्त 2015 में ये विचार आया और अनुन खन्ना ने अपने जन्मदिन 21 अगस्त को कुछ लोगों के सहयोग से इसकी शुरुआत कर दी। शुरुआत के दिनों में पांच से दस लोग भोजन करते थे। कुछ दिनों में यहां के स्वादिष्ट भोजन की ऐसी चर्चा हुई कि अब यहां रोजाना लगभग 500 लोग भोजन करते हैं। अनूप के पिता स्वतंत्रता सेनानी थे उन्हीं की विचारधारा से प्रेरित होकर ये पिछले 20 वर्षों से ज्यादा अलग-अलग तरह के सामाजिक कार्य कर रहे थे। अनूप बताते हैं, "मैं किसी सरकारी पद पर नहीं था इसलिए जब भी किसी मुहिम की शुरुआत करता लोग तरह-तरह के सवाल पूंछने लगते। मुझे लगा किसी ऐसे काम की शुरुआत करूं जहां किसी का हस्तक्षेप न हो। जबसे दादी की रसोई खोला तबसे लगा यही वह काम है जिसकी मुझे तलाश थी।" ये भी पढ़ें- राजस्थान के किसान खेमाराम ने अपने गांव को बना दिया मिनी इजरायल, सालाना 1 करोड़ का टर्नओवर पांच रुपए में दोपहर में खाना खाते लोग यहां रोज खाने में चावल और अचार के साथ अलग-अलग तरह की पौष्टिक सब्जियां और दालें बनती हैं। अब तो इस रसोई की इतनी चर्चा हो गयी है कि अब लोग यहां आकर अपने बच्चों का जन्मदिन भी मनाने लगे हैं। ख़ास पर्व एवम उत्सवों पर यहां पूड़ी, हलवा, मिठाई और आइसक्रीम भी मिलती है। 'दादी की रसोई' को चलाने के लिए पैसे कहां से आते हैं इस सवाल के जबाब में अनूप ने कहा, "इस रसोई को चलाने के लिए सहयोगी व्हाट्स ऐप ग्रुप और फेसबुक पेज के माध्यम से हमारी मदद करते हैं। जो भी मदद करने वाले साथी हैं उन्हें हमारे काम पर इतना भरोसा हो गया है। उन्हें लगता है अगर हम इस समूह को पैसा देंगे तो वह जरूरतमंद तक जरुर पहुंचेगा।" ये भी पढ़ें-बिना जुताई के जैविक खेती करता है ये किसान, हर साल 50 - 60 लाख रुपये का होता है मुनाफा, देखिए वीडियो दादी मां की रसोई में छुट्टी के बाद स्कूल के बच्चे अनूप ये सारा काम अपनी आत्मसंतुष्टि के लिए करते हैं। अनूप के इस सराहनीय कार्य को देखते हुए अब मदद करने वालों की कमी नहीं रह गयी है। यहां के विधायक पंकज सिंह भी दादी की रसोई में सहयोग करते हैं, इन्होंने एक रसोई की और शुरुआत कर दी है। अनूप 'दादी माँ का सदभावना स्टोर' के बारे में बताते हैं, "यहां सक्षम लोग हर तरह के कपड़े दे जाते हैं। कुछ लोग ब्रांडेड कपड़े भी देते हैं, कई लोग शादी के अपने महंगे जोड़े दे जाते हैं। मुझे लगता है भिक्षुक और मजदूर भी अपने मनपसंद कपड़े सस्ते दरों में पहन सकें। इसलिए इस स्टोर में अपने मनपसंद कोई एक जोड़ी कपड़े सिर्फ 10 रुपए में खरीद सकते हैं।" अनूप का मानना है कि सरकार को भी कोई भी चीज मुफ्त में नहीं देनी चाहिए बल्कि उसे सस्ती दरों में उपलब्ध कराना चाहिए।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people खाना ऐसा कि खुशबू से ही भूख लग जाए। दादी की रसोई में खाना सिर्फ देसी घी में बनाया जाता है। सिर्फ 5 रुपये में लोगों को भरपेट खाना खिलाया जाता है। गरीब हो या फिर अमीर हर किसी को दादी की रसोई में बने इस खाने की खूशबू अपनी ओर खींच लाती है। एक बार आपने अगर यहां खाना खा लिया तो आप फिर बार-बार यहीं पर खाना खाने के लिए आएंगी। कहते हैं जिस घर में बड़े-बुज़ुर्गों का आशीर्वाद होता है वहां हमेशा खुशियां रहती हैं और जिस खाने में दादी के हाथों का स्वाद हो तो आप समझ ही जाइए कि वो कितना स्वादिष्ट होगा। अब आप अपने घर पर खाना खाते-खाते bor हो चुकी हैं तो दादी की रसोई में आपका भी स्वागत है।
वैसे दादी की रसोई गरीब और जरुरतमंद लोगों के लिए है। ऐसे लोग जिन्हें दिन में पेटभर खाना भी नसीब नहीं होता। समाजसेवी अनूप खन्ना दादी की रसोई में बना खाना लोगों को खिलाने के लिए नोएडा सेक्टर 29 में आते हैं। यहां लोग उन्हें सिर्फ 5 रुपये देते हैं और वो उन्हें इन पैसों में भरपेट खाना खिलाते हैं। आपको ये भी बता दें कि दादी की रसोई आज कल से नहीं बल्कि पिछले 2-3 सालों से ये काम कर रही है। अनूप खन्ना 500 लोगों का खाना बनाकर नोएडा के सेक्टर 29 के गंगा कॉम्प्लेक्स में लेकर आते हैं। टेबल पर खाना लगाते हैं और फिर खाना खाने वालों की लंबी लाइन लग जाती है। 5 रुपये दो और दादी की रसोई में बना खाना खाओ। दोपहर 12 बजे से 2 बजे के बीच में अनूप खन्ना का सारा खाना खत्म हो जाता है। कभी-कभी तो उससे पहले भी।
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं। ये भी पढ़ें- पत्नी ने अचार के लिए बनाया था सिरका, पति ने खड़ा कर दिया लाखों का कारोबार दो पहिया वाहनों के चालक अगर हैलमेट नहीं पहनें तो उन्हें नहीं मिलता भोजन समाजसेवी अनूप खन्ना (59 वर्ष) से जब कम पैसों में पौष्टिक खाना देने की वजह पूछी गयी तो उन्होंने गांव कनेक्शन संवाददाता को फोन पर बताया, "मैं चाहता तो ये खाना और कपड़े मुफ्त में भी दे सकता था, पर कम पैसे लेने की वजह सिर्फ यह है कि यहां भोजन करने वाले लोगों का स्वाभिमान बना रहे। हर तबके के व्यक्ति पांच रुपए देकर सम्मान से भोजन करते हैं। वही बात कपड़ों के लिए लागू है यहां जरूरतमंद लोग अपनी मनपसंद के कपड़े 10 रुपए देकर ले सकते हैं।" दादी की रसोई में खाना खाने वाले लोग एक भिक्षुक से लेकर दुकान के मालिक तक शामिल हैं। इस रास्ते से गुजरने वाले लोग भी इसका स्वाद चखे बिना आगे नहीं बढ़ते। 'दादी की रसोई' खोलने का विचार अनूप के दिमाग में कैसे आया, इस सवाल के जबाब में अनूप ने कहा, "मेरी माँ बहुत बीमार रहती थी तो उन्हें खाने में हल्का भोजन यानि खिचड़ी देते थे। एक दिन उन्होंने खाते समय कहा कि तुम लोगों ने मेरे खाने में बहुत कटौती की है, इसलिए जितना बचाया है उसे जरूरतमंदों को खिलाना। मेरे बच्चों ने उसी समय इसका नाम 'दादी की रसोई' दे दिया।" ये भी पढ़ें- देसी गाय के गोबर से बनाते हैं वातानुकूलित घर 'दादी माँ का सद्भावना' स्टोर पर सिर्फ दस रुपए में मिलते हैं मनपसंद कपड़े। अगस्त 2015 में ये विचार आया और अनुन खन्ना ने अपने जन्मदिन 21 अगस्त को कुछ लोगों के सहयोग से इसकी शुरुआत कर दी। शुरुआत के दिनों में पांच से दस लोग भोजन करते थे। कुछ दिनों में यहां के स्वादिष्ट भोजन की ऐसी चर्चा हुई कि अब यहां रोजाना लगभग 500 लोग भोजन करते हैं। अनूप के पिता स्वतंत्रता सेनानी थे उन्हीं की विचारधारा से प्रेरित होकर ये पिछले 20 वर्षों से ज्यादा अलग-अलग तरह के सामाजिक कार्य कर रहे थे। अनूप बताते हैं, "मैं किसी सरकारी पद पर नहीं था इसलिए जब भी किसी मुहिम की शुरुआत करता लोग तरह-तरह के सवाल पूंछने लगते। मुझे लगा किसी ऐसे काम की शुरुआत करूं जहां किसी का हस्तक्षेप न हो। जबसे दादी की रसोई खोला तबसे लगा यही वह काम है जिसकी मुझे तलाश थी।" ये भी पढ़ें- राजस्थान के किसान खेमाराम ने अपने गांव को बना दिया मिनी इजरायल, सालाना 1 करोड़ का टर्नओवर पांच रुपए में दोपहर में खाना खाते लोग यहां रोज खाने में चावल और अचार के साथ अलग-अलग तरह की पौष्टिक सब्जियां और दालें बनती हैं। अब तो इस रसोई की इतनी चर्चा हो गयी है कि अब लोग यहां आकर अपने बच्चों का जन्मदिन भी मनाने लगे हैं। ख़ास पर्व एवम उत्सवों पर यहां पूड़ी, हलवा, मिठाई और आइसक्रीम भी मिलती है। 'दादी की रसोई' को चलाने के लिए पैसे कहां से आते हैं इस सवाल के जबाब में अनूप ने कहा, "इस रसोई को चलाने के लिए सहयोगी व्हाट्स ऐप ग्रुप और फेसबुक पेज के माध्यम से हमारी मदद करते हैं। जो भी मदद करने वाले साथी हैं उन्हें हमारे काम पर इतना भरोसा हो गया है। उन्हें लगता है अगर हम इस समूह को पैसा देंगे तो वह जरूरतमंद तक जरुर पहुंचेगा।" ये भी पढ़ें-बिना जुताई के जैविक खेती करता है ये किसान, हर साल 50 - 60 लाख रुपये का होता है मुनाफा, देखिए वीडियो दादी मां की रसोई में छुट्टी के बाद स्कूल के बच्चे अनूप ये सारा काम अपनी आत्मसंतुष्टि के लिए करते हैं। अनूप के इस सराहनीय कार्य को देखते हुए अब मदद करने वालों की कमी नहीं रह गयी है। यहां के विधायक पंकज सिंह भी दादी की रसोई में सहयोग करते हैं, इन्होंने एक रसोई की और शुरुआत कर दी है। अनूप 'दादी माँ का सदभावना स्टोर' के बारे में बताते हैं, "यहां सक्षम लोग हर तरह के कपड़े दे जाते हैं। कुछ लोग ब्रांडेड कपड़े भी देते हैं, कई लोग शादी के अपने महंगे जोड़े दे जाते हैं। मुझे लगता है भिक्षुक और मजदूर भी अपने मनपसंद कपड़े सस्ते दरों में पहन सकें। इसलिए इस स्टोर में अपने मनपसंद कोई एक जोड़ी कपड़े सिर्फ 10 रुपए में खरीद सकते हैं।" अनूप का मानना है कि सरकार को भी कोई भी चीज मुफ्त में नहीं देनी चाहिए बल्कि उसे सस्ती दरों में उपलब्ध कराना चाहिए।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people
इस बढ़ती महंगाई में नोएडा का एक शख्स देसी घी के तड़के से हर दिन सिर्फ पांच रुपए में सैकड़ों लोगों को पेटभर भोजन करा रहा है। ये नोएडा शहर का एक ऐसा ठिकाना है जहां भोजन, कपड़ा और दवा तीनों चीजें सस्ती दरों में उपलब्ध हैं। यहां लोग पांच, दस रुपए देकर स्वाभिमान के साथ खाना खाते हैं और अपने मनपसंद कपड़े खरीदते हैं। 'दादी की रसोई' नाम की ये दुकान उत्तर प्रदेश में नोएडा के सेक्टर-29 स्थित गंगा शॉपिंग कॉम्प्लेक्स में है। जहां हर दिन देसी घी के तड़के से दोपहर 12 से 2 बजे तक सैकड़ों लोगों की भीड़ रहती है। यहां पांच रुपए में पेटभर भोजन, 10 रुपए में मनपसंद कपड़े और प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलकर मरीजों को सस्ती दवा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अनूप सिर्फ दादी की रसोई ही नहीं चला रहे हैं, बल्कि देश के किसी भी हिस्से में आयी प्राकृतिक आपदाओं में भी ये हजारों लोगों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।

https://www.gaonconnection.com/badalta-india/quality-food-in-just-5-rupes-in-noida-and-clotos-in-10-rupees-a-man-of-who-serves-the-poor-people

Wednesday, November 14, 2018

श्रद्धांजलि : थम गई चंपा बहन की आवाज, आकाशवाणी भागलपुर में शोक - AIR Bhagalpur announcer Santwna Sah expires



आरु सब्भै क चम्पा के नमस्कार...' के साथ आकाशवाणी भागलपुर से प्रतिदिन प्रसारित ग्रामजगत खेती गृहस्थी कार्यक्रम का आगाज करने वाली चंपा बहन अलविदा हो गईं। अब आकाशवाणी से उनकी मधुरआवाज सुनने को नहीं मिलेगी। ग्रामजगत खेती गृहस्थी कार्यक्रम में विरजू भाई और चंपा बहन की जोड़ी श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय थी। हर तबके के लोग इन दोनों को सुनने के लिए रेडियो पर जमे रहते थे। विरजू भाई यानी डॉ. विजय कुमार मिश्र और चंपा बहन यानी सांत्वना साह। सांत्वना साह ने गुरुवार को बेंगलुरू के निजी अस्पताल में आखिरी सांस लीं। निधन की सूचना मिलने पर आकाशवाणी भागलपुर सहित शहर के बुद्धिजीवियों, साहित्यकारों, नाटककारों, कवि सहित आम लोग मर्माहत हैं। रेडियो के श्रोताओं ने जैसे ही यह खबर सुनी सभी हतप्रभ रह गए।

आकाशवाणी भागलपुर में सांत्वना साह 13 दिसंबर 1990 से कार्यरत थीं। हिन्दी के उद्घोषक कम्पीयर के नाते उन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई। वे आकाशवाणी में ग्रामजगत के अलावा अंग दर्पण, गूंजे बिहार कार्यक्रम भी करतीं थीं। पिछले कुछ समय से वह बीमार थीं। आकाशवाणी से उनका अंतिम कार्यक्रम ग्रामजगत में 9 अप्रैल को हुआ था। सांत्वना साह अप्रैल 2019 में सेवानिवृत होने वाली थीं।

अप्रैल माह से थीं बीमार
10 अप्रैल को सांत्वना साह कोलकाता के एक स्वास्थ्य शिविर में भाग लेने जा रहीं थीं। अपने भतीजे प्रणवीर के साथ ट्रेन पर जाने के क्रम में ही वह काफी बीमार हो गईं। वह पिछले कुछ माह से यादास्त खोने की बीमारी से जूझ रहीं थीं। बीच रास्ते में ट्रेन से उतरकर सांत्वना साह दूसरे डिब्बे में चलीं गईं। इसकी सूचना प्रणवीर ने सांत्वना साह के दोनों पुत्रों को दी। सांत्वना साह के पुत्र सलील ने अपनी मां को कोलकाता से बेंगलुरू लाने को कहा। सांत्वना के दोनों पुत्र सलील और सौरभ बेंगलुरू में कार्यरत हैं। इस बीच सलील कोलकाता आए आ गए और उन्होंने प्रणवीर के साथ अपनी मां को बेंगलुरू ले गए। दोनों पुत्रों ने अपनी मां को वहीं अस्पताल में भर्ती कराया। चिकित्सक ने माथे पर ट्यूमर होने की बात कही। ट्यूमर ने कैंसर का रूप ले लिया था। जो चौथे स्टेज में पहुंच गया था।

इसके बाद वहीं अपोलो में उन्हें भर्ती कराया गया। जहां कैंसर सहित ट्यूमर का इलाज किया जा रहा था। वहां उन्हें चार कीमोथेरेपी कराया गया। पांचवां और आखिरी कीमोथेरेपी दिसंबर में होना था। लेकिन इलाज के दौरान ही उनकी मौत बेंगलुरू में अस्पताल में हो गया। यहां बता दें कि आकाशवाणी भागलपुर में कार्य के दौरान ही उन्हें यादास्त खोने की बीमारी होने लगी थी।

लेखिका, कवयित्री, नाटककार और निर्देशक थीं सांत्वना साह
सांत्वना साह बहुमुखी प्रतिभा की धनी थीं। उनकी रचित दो पुस्तकें प्रकाशित हुई है। उन्होंने बच्चों के लिए कविता की भी पुस्तक लिखी। वे आकाशवाणी भागलपुर की वरीय नाटककार और लोकगीत गायिका भी थी। लोकगीत रचना करने के अलावा उन्होंने कई कविताएं भी रचीं। रेडियो से प्रसारित होने वाले कई नाटकों के मुख्य पात्र की भूमिका भी उन्होंने निभाईं थीं, जिसे काफी प्रशंसा मिली थी। उन्होंने कई कार्यक्रमों के अलावा कई नाटकों और रूपकों के निर्देशन भी किए थे।

2017 में हो गया था पति का निधन
सांत्वना साह अपने पति शिव शंकर साह के साथ आकाशवाणी के क्वाटर में हीं लंबी अवधि से रहतीं थीं। वहीं से रोज आकाशवाणी आकर काम करतीं थी। उनके पति का निधन 2017 में हो गया। उनके निधन के बाद से ही सांत्वना जी सदमे में चलीं लगीं। आकाशवाणी भी कम आने लगीं। ज्यादातर अवकाश पर रहतीं थीं। उनके इस हाल को देखकर आकाशवाणी भागलपुर के वरीय उद्घोषक डॉ. विजय कुमार मिश्र ने उन्हें काफी समझाया। उन्हें काफी हिम्मत और साहस दी। आकाशवाणी आकर फिर से काम करने के लिए आग्रह किया। तब से वे पुन: आकाशवाणी आने लगीं। लेकिन अपने पति के निधन से बाद से ही वे बीमार होने लगीं थीं। सांत्वना के दोनों पुत्र सलील और सौरभ बेंगलुरू में कार्यरत हैं। उनका ससुराल मुंगेर जिले के असरगंज स्थित मकवा गांव में है। उनका मायके भागलपुर में ही है। मायके परिवार के लोग पटल बाबू रोड में रहते हैं। 

विरजू भाई ने कहा- हमने अपनी चंपा बहन को खो दिया 
सांत्वना साह के निधन से 27 वर्ष 4 माह तक एक साथ आकाशवाणी में काम करने वाले डॉ. विजय कुमार मिश्र काफी मर्माहत हैं। डॉ. विजय ने कहा कि हमने अपनी बहन को खो दिया है। हम लोग जब कार्यक्रम के बाहर भी रहते थे, तो वे मुझे विरजू भाई और हम उन्हें चंपा बहन के नाम से ही पुकारते थे। श्री मिश्र ने कहा कि इतने दिनों का साथ टूटना असहनीय जैसा प्रतीत हो रहा है। आकाशवाणी उनके योगदान को हमेशा याद रखेगी। उन्हें मधुर और कर्णप्रिय आवाज से कार्यक्रम खिल जाता था। कार्यक्रम की प्रस्तुति के लिए उनकी मांग की जाती थी। वे अंगिका और हिन्दी की अच्छी जानकार थीं। अंगिका का उच्चारण इस अंदाज में करतीं थी कि जैसे खुद ग्रामीण परिवेश में रहीं हों। अंग्रेजी भाषा में भी उनकी अच्छी पकड़ थी। एक आदर्श, अनूठा और अद्वितीय व्यक्तित्व का अाज अंत हो गया। उन्होंने सांत्वना साह के निधन को व्यक्तिगत क्षति बताया। यहां बता दें कि आकाशवाणी में विरजू भाई और चंपा बहन की उपस्थिति से वहां गौरवपूर्ण वातावरण का निर्माण हो जाता था। 

आकाशवाणी में हुई शोकसभा
सांत्वना साह के निधन पर आकाशवाणी भागलपुर में शोकसभा आयोजित की गई। इस अवसर पर आकाशवाणी परिवार के सभी अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। सभी ने उनके निधन को आकाशवाणी के लिए काफी क्षति बताया। इस अवसर पर आकाशवाणी के उपनिदेशक अभियंत्रण ब्रजेश कुमार, आकाशवाणी भागलपुर के वरीय उद्घोषक डॉ. विजय कुमार मिश्र, कार्यक्रम अधिशासी मनीष ठाकुर, सचिन कुमार, अमित कुमार, लेखापाल गिरेन्द्र कुमार, पुस्तकाध्यक्ष ब्रह्मदेव मंडल, अभियंत्रण विभाग के पवन वर्मा, गिरिश रविदास, ज्ञानानंद तिवारी, प्रसारण अधिशासी सौरभ कुमार, मो. सरसा के अलावा लेखा विभाग के प्रकाश झा, जितेन्द्र, एसडी गुप्ता आदि मौजूद थे।

गीतकार राजकुमार ने दी श्रद्धांजलि 
शोक व्यक्त करते हुए गीतकार राजकुमार ने कहा कि अंगिका में अपनी अलग पहचान रखने वाली कवयित्री सांत्वना साह और आकाशवाणी भागलपुर की चम्पा बहन जो डॉ.विजय कु.मिश्र 'बिरजू भाय' के साथ समर्पित भाव से अंगिका के लालित्य को चतुर्दिक फैलाने वाली का अचानक चला जाना अंग के लिए अपूरणीय क्षति है। ऐसी सौम्य विदूषी कवयित्री को मैं नमित आँखों से अपनी विनम्र श्रद्धांजलि निवेदित करता हूँ। ईश्वर उनकी विदेही आत्मा को शांति प्रदान करेे।

शोक जताया : सांत्वना साह के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए स्नात्कोत्तर हिन्दी विभाग के प्रो डॉ बहादूर मिश्र और बिहार अंगिका अकादमी के अध्यक्ष डॉ लखन लाल सिंह आरोही ने कहा कि अंगिका और हिन्दी सहित्य की सुधि रचनाकार थीं सांत्वना साह। उन्होंने अंगिका के उत्थान और प्रचार प्रसार में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनके आकस्मिक निधन से हिन्दी और अंगिका साहित्य को व्यापक क्षति हुई है। इनके अलावा डा. तपेश्वर नाथ, डा. राजेन्द्र पंजियार, डा. अमरेन्द्र, कथाकार रंजन, बाबा दिनेश तपन, रामावतार राही, रथेन्द्र विष्णु नन्हें, माधवी चौधरी, महेन्द्र मयंक, अभय भारती, मनोज मिश्र, अमोद कुमार मिश्र, चंद्रकांत पाठक, सत्यनारायण प्रकाश, सुगम कुमार, डॉ मीरा झा, भगवान प्रलय, डॉ मथुरा दूबे, प्यारे हिन्द आदि ने शोक व्यक्त किया है। 

शुक्रवार को होगा दाह संस्कार
उनके पुत्र सलिल ने बताया कि उनका पार्थिव शरीर गुरुवार की देर रात भागलपुर लाया जाएगा। आकाशवाणी भागलपुर के क्वाटर में स्थित सरकारी आवास में उनके पार्थिव शरीर रखा जाएगा। सांत्वना साह यहीं रहतीं थीं। शुक्रवार को उनका दाहसंस्कार सुल्तानगंज घाट पर दो बजे किया जाएगा। 

Contributed By : Jhavendra Kumar Dhruw, Ahinsa Radio Shrota Sangh, Raipur (C. G.) mo: 09826168122
Source & Credit : https://m.jagran.com/lite/bihar/bhagalpur-air-bhagalpur-announcer-santwna-sah-died-18617254.html

Our Bright Children : Mithi D/o Pravat Ranjan Acharya, DDK, Bhubhaneswar wins all odisha higher secondary school games for badminton



Mithi daughter of Shri Pravat Ranjan Acharya, Doordarshan Kendra, Bhubhaneswar has won all odisha higher secondary school games for badminton played at NALCO, Damanjodi and selected for National school games to be played at Pune....


Choicest best wishes from PB Parivar
Any PB parivar member can mail such positive stories about their kids or children of other PB Parivar members at pbparivar@gmail.com for possible publication in PB Parivar Blog www.airddfamily.blogspot.in 

लोक सेवा प्रसारण दिवस के अवसर पर आकाशवाणी दिल्‍ली में गरिमापूर्ण समारोह का आयोजन





12 नवम्बर को देश भर में लोक सेवा प्रसारण दिवस मनाया गया। इसी दिन अर्थात 12 नवंबर 1947 को महात्मा गांधी आकाशवाणी के स्टूडियो आये थे। इस दिन को तत्कालीन जनसंचार जगत ने एक अभूतपूर्व आयाम बताया और इसी पुनीत स्मृति को समस्त देश में याद किया जाता है।

लोक सेवा प्रसारण दिवस के अवसर पर आकाशवाणी दिल्‍ली में गरिमापूर्ण समारोह का आयोजन। इस अवसर पर प्रसार भारती के मुख्य कार्यकारी अधिकारी CEO श्री शशि शेखर वेम्पत्ति और आकाशवाणी के महानिदेशक श्री फय्याज शहरयार की उपस्थिति में संगीतमय कार्यक्रमों की प्रस्तुति की गई। कार्यक्रम के आयोजन में आकाशवाणी ओर जन प्रसार की सहभागिता रही। कई विद्यालयों के छात्र छात्राओं ने भी मधुर गान से सभी श्रोताओं को हर्षित किया।

Source  :  Akashvani Delhi

विविध भारती की उद्घो्षिका ममता सिंह का पहला कहानी संग्रह प्रकाशित


विविध भारती की लोकप्रिय उद्घोषिका रेडियोसखी ममता सिंह का पहला कहानी संग्रह ‘राग मारवा’ इस महीने प्रकाशित हो चुका है। विदित हो कि ममता सिंह का शुमार हिंदी की युवा पीढी के प्रतिभाशाली कथाकारों में होता है। उनकी कहानियां देश की तमाम प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित होती हैं। 

पिछले दिनों आकाशवाणी की सर्वश्रेष्‍ठ उद्घोषिका का राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार भी ममता सिंह को दिये जाने का ऐलान किया गया था। पहली पुस्‍तक के प्रकाशन पर ममता को प्रसार भारती परिवार की ओर से बधाईयां।

राग मारवा में दस लंबी कहानियाँ शामिल हैं। सभी में समाज में तेजी से आ रहे बदलाव, चाहे अच्छे हों या बुरे, को कुछ सीधे और कुछ साफ़ स्वर में कहा है। उनकी कहानी विशेषकर ‘आखिरी कांट्रैक्ट’ हमारे देश में असहिष्णुता और फैलती दहशत को मार्मिक ढंग से बयां करती है। साहित्य जगत में ममता सिंह पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से बेहद परिचित नाम है। वे इलाहाबाद विश्वविद्यालय से संस्कृत में एम.ए., प्रयाग संगीत समिति से “शास्त्रीय संगीत में प्रभाकर” और रूसी भाषा में डिप्लोमा प्राप्त हैं। वर्तमान में विविध भारती, मुम्बई में उद्घोषिका हैं। श्रोताओं के बीच ‘रेडियो सखी’ के नाम से लोकप्रिय हैं तथा ‘छायागीत’ और ‘सखी सहेली’ कार्यक्रम का संचालन करती हैं।

Source : Rajpal & sons Publications, New Delhi

PB Parivar Blog Membership Form